EVM हैक करने का दावा करने वाला पुलिस की गिरफ्त में

मनोहर

ग्वालियर पुलिस ने कांग्रेस प्रत्याशी की सजगता से EVM  हैक करने का दावा करने वाले युवक को पकड़ा है , युवक खुद को सॉफ्टवेयर इंजीनियर बता , कांग्रेस प्रत्याशी रमेश दुबे को अपने झांसे में लेने का प्रयास किया था  , युवक ने  रमेश दुबे को बताया की वो  किसी भी EVM  मशीन को हैक कर परिणाम बदल सकता है।  जितनी चाहे उतनी EVM  हैक करवा लो , 30 मिनट में स्ट्रॉन्ग रूम के अंदर पहुंचकर ईवीएम हैक कर अपनी डिवाइस के जरिए वोट बदल कर परिणाम बदल देगा जिसके लिए प्रति EVM ढाई लाख रुपयों की मांग की थी , रमेश दुबे ने युवक को होटल मिलने बुलाया और पुलिस को फोन कर दिया।   प्रत्याशी की समझदारी से पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

पूरा मामला –

भिंड विधानसभा-10 के  कांग्रेस प्रत्याशी रमेश दुबे के पास 3 दिसंबर को अनजान नंबर  9140749859  से कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद का परिचय दिल्ली निवासी अजय सिंह के रूप में देते हुए कहा कि बीजेपी ने चुनाव में काफी गड़बड़ी की है। वह उनको जवाब देने के लिए ऐसे प्रत्याशियों से संपर्क कर रहा है जिनकी नेट टू नेट फाइट है। उसने कांग्रेस प्रत्याशी को कहा कि उनका एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभय जोशी निवासी लखनऊ इस समय ग्वालियर में काम कर रहा है। वह आपकी पूरी मदद करेगा। इसके बाद अजय ने अपने नंबर से अभय जोशी का मोबाइल नंबर मैसेज किया।

इसके बाद  4 दिसंबर को फिर कांग्रेस प्रत्याशी रमेश दुबे को कॉल किया। इस बार अभय ने काल किया था ,उसने बताया कि वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। उसकी निर्वाचन आयोग में अच्छी पकड़ है। पूरा खेल ऊपर से हो रहा है। एक अवर सचिव हमारा आदमी है। कांग्रेस प्रत्याशी ने पूछा कि स्ट्रॉन्ग रूम में घुसना तो नामुमकिन है। इस पर वह बोला कि निर्वाचन आयोग से पत्र आएगा। जिससे वह भिंड के स्ट्रॉन्ग रूम में दाखिल हो जाएगा। सिर्फ 30 मिनट में अपनी डिवाइस लगाकर ईवीएम को हैक कर लेगा। 2.5 लाख रुपए एक ईवीएम के लगेंगे जितने कहोगे वोट आपके फेवर में बदल दूंगा।

प्रत्याशी ने लिया सूझबूझ से काम 

कांग्रेस प्रत्याशी रमेश दुबे को कॉल करने वाला पहले ही दिन से फ्रॉड लग रहा था। लेकिन उसका पकडे जाना भी जरुरी था। ताकि असलियत सामने आ सके , उन्होंने उससे मिलने के लिए ग्वालियर में समय तय किया। बुधवार दोपहर 2 बजे स्टेशन बजरिया स्थित एक रेस्टोरेंट में मिलना तय हुआ। इसके बाद उसको देखकर रमेश दुबे ने एसपी ग्वालियर नवनीत भसीन से संपर्क किया। एसपी ने तत्काल पुलिस फोर्स भेजा और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

जांच में ही फर्जी निकला युवक 

अब पुलिस मामले में आरोपी से पूछताछ कर रही है।  हालांकि प्रथमदृष्टया ही मामला फेक नजर आता है लेकिन पुलिस चुनाव परिणामों केआने से पूर्व कोई जोखिम लेना नहीं चाहती। जिसके चलते पूवक को हिरासत में रख गहन पूछताछ कर रही है। पुलिस की जांच में प्रारंभिक तौर पर सामने आया है की  लखनऊ का सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभय जोशी बता ने वाला युवक  असल में वह यूपी के जालौन स्थित ऊमरी का 12 पास  नीरज राठौर है, उसकी ससुराल भिंड में है। बीते एक महीने से वह ग्वालियर में रह रहा है। यहां उसकी पत्नी एक निजी स्कूल में शिक्षिका है। युवक ने पुलिस को बताया कि उसने सिर्फ समाचार पत्रों में लगातार मशीनों को हैक कर पैसे ऐंठने की खबरें पढता था। उसी से उसने यह आयडिया लिया और भिंड के रमेश दुबे को फोन कर फंसाने का प्रयास किया। युवक ने बताया कि उसने ढाई लाख रूपयों की मांग की थी और दुबे जी से आधे पैसे देने के लिए कहा था। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर युवक से पूछताछ शुरू कर दी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!