मंगलवार होगा आमला की सबसे आकर्षक झांकी देखने का इंतजार खत्म

Scn news india

दिलीप पाल 
जागरूकता, सामाजिक मुद्दे और त्वरित घटनाओं पर आधारित होती है मित्रमंडल आमला की झांकी
आमला। नवरात्रि का दौर जैसे ही प्रारम्भ होता है आमला और आसपास के लोगो के जहन में एक ही बात होती है कि इस बार मित्रमंडल समिति द्वारा झांकी में क्या विशेष होगा क्योंकि प्रतिवर्ष समिति द्वारा देश मे घटित घटनाओं, सामाजिक मुद्दे, भ्रष्टाचार,आतंकवाद, पर्यावरण और जागरुकता सम्बंधित विभिन्न विषयो को सम्मलित किया जाता है जिससे आम जनता बड़े उत्साह के साथ यहाँ झांकी देखने पहुँचती है।


इस बार आसमान में चारो तरफ मंडराते सफेद-काले बादल, सितारों से आच्छादित आवरण और पूर्णिमा के दैदीप्यमान चांद के किनारे झूला झूलती मां भवानी, मातारानी के निजलोक की अवधारणा को चित्रित करती मनभावन झांकी वार्ड 3,कसारी मोहल्ला में मित्रमंडल समिति द्वारा बनाई गई है। देवी प्रतिमा के साथ-साथ सामाजिक मुद्दों पर बनने वाली झांकियां मित्रमंडल समिति की पहचान रही है। समिति के अमन सागरे एवं शिवम खरे ने बताया कि झूला झूलती मातारानी की प्रतिमा के साथ इस वर्ष गोवर्धन धारण करते हुए भगवान कृष्ण की झांकी बनाई गई है, जिसमे कोरोनाकाल के योद्धाओं के साथ,कालाबाजारियो को भी शामिल किया गया है, धर्म के साथ तात्कालिक घटनाओं पर झांकी मित्रमंडल समिति शुरू से बनाते रही है।

समिति सदस्य तेजप्रकाश खरे एवं राजा कटारिया बताते है कि विगत 23वर्षों से झांकी का निर्माण किया जा रहा है, और खास बात ये है कि समिति के सभी सदस्य अपनी नौकरी,व्यवसाय से थोड़ा-थोड़ा समय श्रमदान के लिए निकालकर स्वयं भव्य झांकी का निर्माण करते है। पिछले वर्ष से मित्रमंडल समिति द्वारा एक नवाचार शुरू किया गया है,जिसमे नवरात्रि में झांकी देखने आये श्रध्दालुओं से प्राप्त चढ़ावा सामाजिक कार्यो में लगाया जाता है, इस वर्ष ये राशि नवरात्रि के तुरंत बाद शहर के आसपास वृक्षारोपण कार्यो में खर्च की जाएगी। ललित धामने का कहना है कि धर्म के प्रचार के साथ पर्यावरण की चिंता भी हमारी समिति की प्राथमिकता में है, अतः दशहरा से दीपावली के बीच शहरवासी भी चाहें तो पौधे पाने के लिए मित्रमंडल समिति से सम्पर्क कर सकते है, इच्छुक व्यक्तियों को मुफ्त पौधे प्रदान किये जायेंगे।

Live Web           TV