खाद के लिए दर-दर भटक रहा अन्नदाता किसान, किसानों ने लगाये गंभीर आरोप

Scn news india


संवाददाता रविन्द्र शर्मा अमानगंज

1. खाद के लिए दर-दर भटक रहा अन्नदाता किसान।

2.हिनौती खाद गोदाम में हजारों किसानों की लगी भीड।

3. नहीं मिल पा रही खाद्य
कालाबाजारी करने में जुटा खाद्य वितरण प्रबंधन।

4. किसानों ने लगाये गंभीर आरोप।

मध्य प्रदेश सरकार और प्रदेश के मुखिया किसानो के हित के लिए कई प्रकार की योजनाये चला रहे है इतना ही नही किसानों को हर संभव मदद करने की बात कह रहे है मगर यह दावे धरातल पर दम तोड़ते नजर आ रहे हैं आज किसान बोनी के समय खाद के लिए दर-दर भटकता देखा जा रहा है जिस ओऱ ना तो राजनेताओं का ध्यान जा रहा है और ना ही जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियों का जिस वजह बाजार में इस खाद्य की कालाबाजारी कर औने पौने दामों पर किसानों को लूटने का कार्य किया जा रहा है क्या है पूरा मामला देखे इस रिपोर्ट में .

मामला अमानगंज खाद्य भंडारण केंद्र हिनौती का है जहां खाद गोदाम में किसानों के लिए 1200 रूपए पट्टे पर निर्धारित खाद की बोरी उपलब्ध कराई जानी है मगर शासन से पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध ना करा पाने से किसानों को खाद्य उपलब्ध नहीं हो रही जो बची खुची खाद है उन्हें खाद्य गोदाम के वितरणकर्ता अपने हितेषी एवं दलालों के माध्यम से अपने करीबियों तक पहुंचा रहे हैं और लंबी रकम कमाने का कार्य कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि वितरणकर्ताओ द्वारा जान बूझकर किसानों के पट्टे रख लिए गए। जिससे उनके पट्टो पर प्रबंधन द्वारा खाद्य निकाल कर के कालाबाजारी करते हुए ट्रैक्टरों पर लाद कर भेज दी गई है जो अब बाजार में 1400 रुपए से 1500 रुपए के हिसाब से किसानों को बेची जा रही है और दुकानदार लंबा मुनाफा कमा रहे हैं। जिस वजह से किसान अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं।

 

जानकारी के अनुसार 2 दिन से प्रबंधन द्वारा किसानों के पट्टे रख लिए गए हैं मगर अंतिम समय में खाद्य ना होने की बात कहकर किसानों को वापस लौटा दिया गया जो कहीं ना कहीं कालाबाजारी की ओर इशारा कर रहा है वही हैरानी की बात तो यह है की किसान महिलाएं भी गोदाम के 3 दिन से चक्कर लगा रही हैं उनके पट्टे भी गोदाम प्रबंधन द्वरा जमा कर लिए हैं मगर खाद उपलब्ध नहीं हो रही जिससे उनके घर में छोटे-छोटे बच्चे परेशान हो रहे हैं और यह खाद उन महिलाओं के लिए मुसीबत बनी हुई है क्योंकि बुवाई का कार्य तेजी से किया जा रहा है

  नवाब सिंह यादव (किसान)

खाद न मिलने से वहीं खेत खराब होने की कगार पर खड़े हुए हैं वही हजारों की संख्या में खड़े किसान इस भारी गर्मी एवं उमस में बिना छाया के तपती धूप में खड़े होने को मजबूर देखे जा रहे हैं जिनको ना तो पानी की पीने की व्यवस्था है नाही छाया दान की। वही पूरे मामले की जानकारी अमानगंज तहसीलदार डॉ अवंतिका तिवारी को लगी तो तहसीलदार और थाना प्रभारी विजय कुमार अहिरवार मौका स्थल पर पहुंचे एवं विवादित स्थिति में एकत्रित खड़ी भीड़ को पुलिस की मदद से बैठाया गया और लाइन लगाकर खाद वितरण का कार्य प्रारंभ किया। जिसके बाद तहसीलदार के आदेश पर किसानों के लिए पीने योग्य पानी की व्यवस्था पंचायत के द्वारा की गई।

 

इंदल राजपूत (किसान)

 

डॉ. अवंतिका तिवारी (तहसीलदार अमानगंज)