माँ जालपा मंदिर में तीन रूपो में होती है जगतजननी की आराधना, शारदेय नवरात्र के पहले दिन लगा रहा भक्तों तांता,

Scn news india

संवाददाता सुनील यादव कटनी

कटनी -शारदेय नवरात्र के पहले दिन माँ चंद्रघंटा की आराधना के साथ पर्व का शुभारंभ हुआ। एक ओर जहां शहर में विभन्न मार्गो को सजाया गया है। वही घट स्थापना और जवारा के साथ माँ जगदम्बे की स्थापना दुर्गा पंडालों की जा रही है। शहर के विख्यात माँ जालपा चौसठ योगिनी मंदिर में भी नवरात्र के पहले फिन भक्तो की भीड़ मंदिर में रही। शाम तक लोग माँ जगत जजनी के दर्शनों को मंदिर में पहुँचते रहे।

शहर के साथ बाहर से भी लोग माँ जगतजननी के इस मंदिर में आराधना करने पहुँचते है। पूरे नौ दिन माँ की महाआरती में हजारों लोग शामिल होते है। इस मंदिर में माँ के चौसठ रूपो की मूर्तियां स्थापित है। दोनों नवरात्रो में माँ जालपा के मंदिर विशेष पूजन अर्चन किया जाता है।

लालजी पांडा जालपा मंदिर पुजारी

इस वर्ष शारदीय नवरात्रि पर चतुर्थी और पंचमी तिथि एक साथ पड़ रही है, ऐसे में 7 अक्टूबर से शुरू हो रहे शारदीय नवरात्र 14 अक्टूबर तक रहेंगे और 15 अक्टूबर को विजयदशमी यानी दशहरा मनाया जाएगा। नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा की अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाएगी ल
7 अक्टूबर- मां शैलपुत्री पूजा घटस्थापना
8 अक्टूबर- मां ब्रह्मचारिणी पूजा
9 अक्टूबर- मां चंद्रघंटा पूजा व मां कुष्मांडा पूजा
10 अक्टूबर- मां स्कंदमाता पूजा
11 अक्टूबर- मां कात्यायनी पूजा
12 अक्टूबर- मां कालरात्रि पूजा
13 अक्टूबर- मां महागौरी दुर्गा पूजा
14 अक्टूबर- मां सिद्धिदात्री पूजा
15 अक्टूबर 2021: विजयादशमी (दशहरा)