जनसेवा मानव सेवा करके मनायी महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती

Scn news india

अमित चौरसिया ब्यूरो नैनपुर 

महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती को जनसेवा मानव सेवा करके मनाया , योगीराज अस्पताल मण्डला में स्वामी सीताराम दास जी महाराज ट्रस्ट और शिवम हेल्थ एन्ड सोशल फाउंडेशन के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित इस पूर्णतः निःशुल्क कैम्प में 140 कैंसर और हजारों सिकल से के मरीज देखे गए,

देश के प्रशिद्ध कैंसर रोग विशेषज्ञ और बालको मेडिकल सेन्टर रायपुर के डायरेक्टर अनुराग श्रीवास्तव न केवल140 कैंसर के मरीज देखे बल्कि किंगफिशर होटल मण्डला में आयोजित कैंसर विषय पर सेमिनार में बताया कि मुँह का कैंसर सर्विक्स ब्रैस्ट कैन्सर पेट का कैंसर और 70 परसेंट कैंसर से सावधानी सजगता जागरूकता से बच सकते हैं, तम्बाखू और मैदे का आइटम और ख़राब तेल या कई बार उपयोग से बना या कई घंटों से बना कोई भी खाद्य पदार्थ शरीर के लिए हानि कारक होता है,इनकी सावधानी से 70 रिस्क कम कर सकते हैं,

 

सीकल से एक अनुवांशिक बीमारी है जो आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों महामारी का रूप ले चुका है जो शासन प्रशासन स्तर पर उपेक्षित रहा है, जो कुछ विशेष समुदायों में अधिकतम पाया जाता है,

दो प्रकार का जिसमें एक वाहक और दूसरा सिकल सेल बीमारी जिसमें क्राइसेस में खून टूटता है अचानक पूरे शरीर में जोड़ पेट दर्द होता है खून टूटने से HB कम हो जाता है,
पिछले साल हुए शिविर का परिणाम रहा कि इस बार के शिविर में भारत सरकार के सचिव और CSIR के डायरेक्टर जनरल डॉ शेखर मांडे, और राष्ट्रीय लेवल पर काम कर रहे और सीकल सेल एनीमिया पर कार्य कर रहे डॉ आर पी सिंह,दिल्ली डॉ विनय नंदिकोरी और डॉ गिरिराज रतन चांडक हैदराबाद आये,

डॉ प्रदीप सिहारे शिशु और सिकल सेल रोग विशेषज्ञ बिलासपुर से,डॉ प्रदीप पात्रा और उनकी 30 सदस्यीय टीम छत्तीगढ़ के आई, वे छत्तीसगढ़ सरकार के डायरेक्टर जो सिकल सेल पर कार्य कर रहे हैं, उन्हीं के सहयोग से, हुआ,

सिकल सेल के पुराने1000हजार नए300 पॉजिटिव आये जिन्हें दवा गई,

डॉ प्रदीप पात्रा और डॉ सिहारे का कहना है कि सीकल सेल के मरीज यदि रोज हाइड्रोक्सी यूरिया फॉलिस एसिड लेते हैं तो खून लगने की जरूरत नहीं होगी, दुबला पतला शरीर स्वास्थ्य होने लगेगा कई वर्षों से ले रहे मरीज को पहचान कठिन हो जायेगा कि ये सीकल से से पीड़ित व्यक्ति है,

जो डॉ वैज्ञानिकों की टीम पिछले वर्ष हुए कैम्प का परिणाम जिसमें बहुत अधिक मरीज2 दिन के कैम्प में उसी के इस कैम्प में क्षेत्र में सिकल सेल की गम्भीरता समझने आये थे,

हमनें मण्डला में इसकी गंभीरता को देखते हुए यहाँ एक रिसर्च सेंटर की मांग की है उन्होंने इसकी आवश्यकता को समझा,

हमारी मांग का परिणाम स्वरूप राष्ट्रीय लेवल से एक टीम 6 महीने से मरीजों के स्कीनिंग और परीक्षण में लगी है फाइनल रिपोर्ट के बादक्षेत्र में इसकी गंभीरता देखते हुए नया सेंटर बनाया जायेगा,

योगिराज हॉस्पिटल में पॉजिटिव मरीजों को पूरे साल फ्री दवा का वितरण किया जायेगा,

मरीजों को हर रोज दवा खाने के साथ 2-3 महीनों में खून की जाँच करनी होगी, जिससे दवा की मात्रा को घटाया बढ़ाया जा सके,

अगले माह फिर ट्रस्ट के माध्यम से डिंडोरी में कैम्प रखा जायेगा,

स्वामी सीताराम दास जी महाराज ट्रस्ट के मुख्य कार्यकारी न्यासी श्री सत्यनारायण खंडेलवाल जी के साथ अन्य न्यासी कमल कस्तवार जी ,सी ए मुकेश जैन जी ,अधिवक्ता संजय दुबे और अग्रवाल जी की मुख्य भूमिका रही,

निवास विधायक डॉ अशोक मर्सकोले के विशेष मार्गदर्शन में समायोजन में कैम्प का आयोजन हुआ,,

नगर की विभिन्न सामाजिक संघटनों के पदाधिकारी जिसमें श्यामलता झारिया नूरेन मंसूरी, मुकेश कछवाह,के साथ सीकल सेल एनीमिया होप टीम मण्डला के युवा बड़ी संख्या में रहे, इन्द्रेश खरया, रेणु कछवाह, राजेश खत्रीजी सुनील मिश्रा,

योगिराज अस्पताल का समस्त स्टाफ का विषय सहयोग रहा,

कांग्रेस जिला अध्यक्ष राकेश तिवारी जी,पूर्णिमा शुक्ला जी adm मीना मसराम जी, cmho dr sn सिंह, dr शैलेन्द्र गुप्ता उपस्थित रहे दीप प्रज्वलन और कार्यक्रम में उपस्थित रहे,