आदिवासी जिला मंडला में बच्चो के भविष्य को लेकर चिंता करते हुए कलेक्टर ने की एक अनूठी पहल

Scn news india

शारदा श्रीवास ब्यूरो मंडला 

आदिवासी जिला मंडला में कलेक्टर ने बच्चो के भविष्य को लेकर चिंता करते हुए एक अनूठी पहल की है….जहां बारहवीं पास होने के बाद कैरियर बनाने को लेकर परेशान बच्चो के मन में चल रहे सवालो को अधिकारियो से ही जवाब दिलाने का काम किया है….
दरअसल मंडला जिला आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र है….यहां ज्यादा विकास के आयाम नही है….और ना ही ज्यादा ये विकसित इलाका है…..जिसके चलते बच्चो को पढ़ने और उन्हे कैरियर बनाने में काफि दक्कतो का सामना करना पड़ता है….इस इलाके के बच्चे टैलेंट तो है…लेकिन सही जानकारी नही मिलने के कारण ये पिछड़ जाते है….और जिस मुकाम के लायक है वो उन्हे नही मिल पाता है…

 हर्षिका सिंह, कलेक्टर, मंडला

इन सब बातो को ध्यान में रखते हुए मंडला कलेक्टर ने रानी अवंती बाई स्कूल में आज कैरियर मार्गदर्शन और मोटिवेशनल कार्यक्रम का आयोजन किया गया…. जहां अलग-अलग क्षेत्रों और विभागों केजिला अधिकारी और वरिष्ठ लोग शामिल हुए….जहां जिले के अधिकारियो ने अपने विभाग और अपनी पढ़ाई के बारे में अनुभवो को बच्चो के सामने सांझा किया….इस कार्यक्रम में 2020 बैच के आईएएस ऑफीसर और वर्तमान में सहायककलेक्टर अग्रिम कुमार ने विद्यार्थियों को अपने भविष्य के प्रति स्पष्ट दृष्टिकोण औऱ सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने की सलाह दी…. उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति अपनी योग्यता एवं रचनात्मकता के अनुसार अपने क्षेत्र का चयन करें…इसके साथ ही इस कार्यक्रम में जब सभी अधिकारी अपने क्षेत्र और अपनी पढ़ाई के बारे में अपने अनुभव को साझा कर रहे थे….इस बीच कईबच्चो ने भी अधिकारियो से सवाल किया।

कई बच्चे कलेक्टर तो कोई एसपी तो कोई डीएसपी बनना चाहता है….इन सब बातो को लेकर बच्चो ने कलेक्टर एसपी से सवाल भी किए…बच्चो ने कलेक्टर, एसपी, तहसीलदार, बनने के लिए क्या पढ़ाई करनी पड़ती है.. इसका एक्जाम कैसे होता है…. कैसे पढ़ा जाता है….इन सब बातो को लेकर सवाल किया…..जिसका जिले के अलग- अलग विभागो के अधिकारियो ने सवालो के जवाब दिए….इस दौरान मंडला कलेक्टर ने बच्चो के साथ अपने पढ़ाई और अपने अनुभव को बच्चो के सामने रखा….इस दौरान उन्होने कहा कि हर विद्यार्थी को अपने जीवन में कुछ बनने के लिए सपने जरूर देखने चाहिए… उन सपनों को पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्पित होकर मेहनत करना चाहिए… अनुशासन औऱ मेहनत से हर लक्ष्य को पाया जा सकता है।