नर्मदा नदी से जोरों से चल रहा है रेत का कारोबार, प्रशासन की नजर इस ओर नही

Scn news india

जिलाब्यूरो  गणेश शर्मा डिंडोरी 

थाना गाड़ासरई अंतर्गत ग्राम पंचायत शोभापुर अंतर्गत नर्मदा नदी से तीन चार घाट जैसे पाटन, कठौती टोला, कर्वे मट्टा, इन जगहों से बेधड़ले से रेत की  निकासी हो रही  है।
एक ओर सरकार परेशान है माँ नर्मदा नदी से अवैध उत्खनन को रोकने में दूसरी ओर के पी भदौरिया के लड़कों का गाड़ासरई में जमावड़ा लगा हुआ है साथ ही घाट घाट जाकर ट्रैक्टरो से अवैध रूप से पैसा बसूली किया जा रहा है।
आज का ही एक मामला सामने आया कि शोभापुर कठौती टोला में मिली  जानकारी के अनुसार थाना गाड़ासरई के पुलिस बल मौके पर पहुंच कर एक ट्रैक्टर रेत से भरा लोड जिसको जप्त किया गया साथ ही ट्रेक्टर चालक को थाना ले कर जाने को कहा गया लेकिन कुछ दूर चल कर रेत से भरा ट्रेक्टर गायब हो गया थाने  ही नही पहुँचा।

 

वही ट्रेक्टर चालक से पूछने पर पुलिस बल के कुछ लोगों के सहमति से खाली कराने को कहा गया। साथ ही मौके पर के पी भदौरिया के कर्मचारियों का भी रोल देखने को मिला जिनके द्वारा ट्रैक्टर को जप्त कर कार्यवाही कराने में अपनी भूमिका निभाते नजर आए।
अब सवाल तो यँहा खड़ा होता है कि जब रेत से भरा ट्रेक्टर मौक़े से सटल मेन्ट में खाली हो जाय ,वो भी पुलिस बल का और रेत ठेकेदार के कर्मचारी से सामने , तो आखिर रेत माफियाओं को  किसका संरक्षण  है जो कि इतने दिलेरी के साथ अपना कारोबार चला रहा है।

ग्राम पंचायत में होने वाले निर्माण कार्य मे भी लोगों को हो रही है समस्या – रेत मिल राहु  महंगे दामो पर। 
वर्तमान स्थिति में जैसा कि की विवाद देखा गया जिसमें ट्रेक्टर चालक,मालिक,पुलिस बल और रेत के ठेकेदार के कर्मचारियों का बीच जिसमे रियलिटी मांगी जा रही थी पर ठेकेदार के कर्मचारियों के पास रियलिटी नही था जिस बात को लेकर गाड़ी मालिक और ग्राम वाशियों का विवाद भी जम से हुआ साथ ही बीच का रास्ता निकलते हुए पुलिस बल के द्वारा ट्रेक्टर जप्त के बहाने खाली करा दिया गया।
इससे पहले भी रेत को लेकर आये दिन ग्रामीणों के बीच विवाद बना रहता है लेकिन प्रशासन की नजर आसमान में।ऐसा होना निश्चित दिख रहा है कि कोई बड़ा हादसा होंने की संभावना आस पास छेत्र में है।


आस्था का केंद्र नर्मदा घाट घाट से हो रहा है छलनी जिले के जिम्मेदार अधिकारी का नजर कंहा।
वैसे भी देखा जाय तो डिंडोरी थाना कौड़िया,गीधा,बंजर टोला,गाड़ासरई थाना से मझियाखार,लिखनी,शोभापुर,पाटन, कठौती टोला,कर्वे मट्टा,लालखाती,रूषा बंजर टोला, सिवनी संगम,रहंगी,करंजिया थाना अंतर्गत रूषा बंजर,मूसा मुंडी ऐसे तमाम जगहों से बड़े धड़ल्ले से रेत का कारोबार चल रहा है।अब इसमें जिम्मेदारी किसकी।
कंही कंही रेत के कारोबारीयो के द्वारा फर्जी रियलटी भी दिया जाता है जिसमे स्पष्ट नही होता की ये रियलिटी है भी की नही सिर्फ एक टी पी नंबर का सहारा ले कर कारोबार चल रहा है।ना कोई खदान का नाम है ना खदान से जिस जगह जाने का।
और तो और सुनने में आ रहा है कि रेत ठेकेदार के द्वारा डंप रेत का रियलिटी दिया जाता है सही मायने में देखा जाय तो कंपनी के द्वारा कंही भी रेत डंप नही है।अब इसमें ये समझ मे नही आता कि अवैध रेत का कारोबार खदान ठेकेदार चला रहा है या खनिज विभाग ये भी जांच का विषय है???

इनका कहना है।
नर्मदा नदी से अवैध रूप से बाहरी लोगों के द्वारा और जिले के प्रशानिक अधिकारियों के मिली भगत से फर्जी रियलिटी दे कर रेत का निकासी करवाया जा रहा है जबकि पूर्ण रूप से शोभापुर से लेकर मूसा मुंडी तक खदाने शिथिल  पड़ी है हम इसमें कार्यवाही की मांग करते है।

महेंद्र सिंह परश्ते
गोंड महा सभा कार्यवाहक अध्यक्ष।