आमला पुलिस द्वारा गौवंश से भरे पिकअप वाहन को रात्रि गश्त ड्यूटी के दौरान 20 कि.मी. पीछा कर पकड़ा

Scn news india

दिलीप पाल 

आमला. पुलिस अधीक्षक महोदय सुश्री सिमाला प्रसाद जिला बैतूल द्वारा जिले में चलाए जा रहे विशेष अभियान जुआ, सट्टा, शराब एवं अवैध गौवंश तस्करी के तहत अभियान में श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय श्री नीरज सोनी के निर्देशन में अनुविभागीय पुलिस अधिकारी सुश्री नम्रता सोंधिया के नेतृत्व में थाना प्रभारी आमला श्री संतोष पंद्रे के आदेश अनुसार रात्री गश्त के दौरान दिनांक 25.09.21 की रात्रि 02.30 बजे उनि नितिन उईके द्वारा गश्त चेकिंग के दौरान बोरी जोड़ पर थे तभी सारणी तरफ से तेज गति से आ रही एक सफेद रंग की लोडिंग पिकअप वाहन जिसमें गौवंशों के चिल्लाने की आवाज आ रही थी, जिसे रोकने पर वह नही रुका, जिसका उनि नितिन उईके द्वारा थाना आमला के अधिकृत वाहन से पीछा कर रोकने का प्रयास किया गया परन्तु पिकअप वाहन के चालक द्वारा साइड न देने पर वाहन को और तेज गति से खापा जोड़ होते हुए खापा खतेडा, से लालावाड़ी जोड़ के पास से रास्ता भटकने पर ग्राम जम्बाडा की और अपनी पिकअप को दौड़ा दिया जिसे उनि नितिन उईके द्वारा वहां भी पीछा कर उसे नहीं छोड़ा और ग्राम जम्बाडा में रास्ता न मिलने पर उक्त पिकअप वाहन को वापस आमला के रास्ते महाराष्ट्र की और जाने के लिए तेजी से दौड़ा दिया जिसे उनि नितिन उईके द्वारा वहां भी पीछा कर गश्त ड्यूटी कर रहे चेकिंग पॉइंट एवं रात्री एचसीएम को जरिये मोबाइल के सूचना कर उक्त पिकअप वाहन को आमला बस स्टैंड पर घेराबंदी कर पकड़ा गया जिसे मौके पर चेक करने पर लोडिंग पिकअप वाहन के अंदर ठूंस-ठूंसकर क्रूरता पूर्वक भरे हुए गाय, बैल और बछड़े रस्सियों से बंधे हुए थे तथा मौका पाकर वाहन चालक वहां से वाहन छोड़कर भाग गया। उक्त पिकअप वाहन क्र. MH-29-BE-3461 एवं गौवंश की मौके पर जप्ती बनाई जिनमे 09 गाय, 02 बछिया और 01 बैल जीवित अवस्था में तथा 01 बैल मृत अवस्था में पाया गया, उन्हें ग्राम देवगांव में निर्माणाधीन गौशाला में सुरक्षार्थ हेतु उनके सुपुर्द किया गया जहाँ उनका मेडिकल परीक्षण करवाया गया और थाना आमला में असल अपराध 653/21 धारा 4,4,6ए/9 म.प्र. गौ वंश प्रतिषेध अधिनियम 11 (1) (घ) पशु क्रूरता अधिनियम एवं धारा 429 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया सम्पूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी संतोष पंद्रे निरीक्षक आमला, उपनिरीक्षक नितिन उईके, का.वा.प्र.आर. 289 सुनील राठौर, आर. 660 लक्ष्मण जामोद, सैनिक 15 विजय राजपूत, आर. 455 रामकिशन नागोतिया की सराहनीय भूमिका रही।