चार वेदर सिस्टम सक्रिय, मप्र में जारी रहेगा बारिश का सिलसिला

Scn news india
मनोहर
वर्तमान में पूर्वी मध्यप्रदेश और आसपास हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में एक गहरा कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। मानसून ट्रफ भी नौगांव से होकर बंगाल की खाड़ी तक जा रहा है। साथ ही सौराष्ट्र पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इन चार वेदर सिस्टम के प्रभाव से पूरे प्रदेश में बौछारें पड़ रही हैं। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक शनिवार को भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद संभागों के जिलों में गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।
मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक शुक्रवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक मलाजखंड में 25, बैतूल में 18, ग्वालियर में 17.4, भोपाल में 9.8, पचमढ़ी में पांच, इंदौर में 4.8, नरसिंहपुर में दो, छिंदवाड़ा में 0.6, उमरिया में 0.2 मिलीमीटर बारिश हुई। राजधानी का अधिकतम तापमान 31.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से एक डिग्रीसे.कम रहा। न्यूनतम तापमान 23.8 डिग्रीसे. रिकार्ड हुआ। यह सामान्य से दो डिग्रीसे. अधिक रहा।
26 को ओडिशा पहुंचेगा सिस्टम
मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि वर्तमान में बंगाल की खाड़ी में गहरा कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम के शनिवार को अवदाब के क्षेत्र में तब्दील होने की संभावना है। वर्तमान में मानसून ट्रफ भी जैसलमेर, अजमेर, नौगांव, डाल्टनगंज, जमशेदपुर, दीघा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम 26 सितंबर को ओडीशा के तट पर पहुंचेगा। इसके प्रभाव से मप्र में शुरू हुआ बारिश का सिलसिला तीन-चार दिन तक जारी रहने के आसार हैं।