ज़मीनी विवाद को लेकर दो पक्षों में मारपीट निजी कृषि भूमि पर पंचायत द्वारा जारी पट्टा चर्चा में

Scn news india

दिलीप पाल

आमला. बोरदेही थाना क्षेत्र के बासन्या ग्राम में ज़मीनी विवाद को लेकर दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। जिसमें लगभग पांच लोगों को चोंट आई है।बोरदेही थाना पुलिस द्वारा दोनों पक्षों पर अपराध दर्ज कर जांच की जा रही है।उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत मालेगांव के ग्राम बासन्या निवासी हीरालाल यदुवंशी और कमल बगाहे के बीच ज़मीन का विवाद चल रहा था जिसको लेकर दोनों पक्षों द्वारा तहसीलदार आमला और एसडीएम मुलताई कार्यालय में शिकायत की गई थी, लेकिन एसडीएम कार्यालय से कोई निर्णय होता इससे पहले ही दोनों पक्षों की आपस में जमकर मारपीट हो गई।
ग्राम बासन्या निवासी हीरालाल यदुवंशी ने बताया कि ग्राम वासियों में हमारी खानदानी जमीन पर कमल बगाहे ने अवैध अतिक्रमण कर मकान बनाने का कार्य किया था जिसको लेकर हमने तहसीलदार आमला एवं अन्य अधिकारियों को इसकी सूचना दी थी गत दिनों भी यह व्यक्ति हमारी भूमि में मकान निर्माण करने आया था जिसको लेकर उसे बार-बार समझाइश दी गई।लेकिन दिनांक 18 सितंबर शनिवार को वे लोग हमारी भूमि पर भवन निर्माण करने आए थे जिन्हें समझाइश दे रहे थे लेकिन उन्होंने हमारे साथ मारपीट की है।
भूमि मालिक हीरालाल ने बताया कि ग्राम बासन्या के कमल बगाहे द्वारा ग्राम पंचायत द्वारा निजी भूमि पर प्रदत्त पट्टा भी सार्वजनिक किया गया है जिसमें उसे हीरालाल यदुवंशी के खसरा नं 140, रकबा नं 1.121 हे. में पंचायत द्वारा पट्टा प्रदान किया गया है इस संबंध में ग्राम पंचायत सरपंच से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि उक्त अवैधानिक पट्टा हमारे कार्यालय से जारी नहीं किया गया है।किसी व्यक्ति द्वारा मेरे हस्ताक्षर का दुरुपयोग किया गया है जिसको लेकर मुख्य कार्यपालन अधिकारी आमला को भी सूचित कर चुके हैं। फिलहाल उक्त मामला अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) मुलताई के समक्ष प्रस्तुत है जिस पर निर्णय लिया जाना शेष है।
बहरहाल देखना यह है कि कृषि योग्य निजी भूमि पर पंचायत द्वारा जारी किया गया पट्टा जिसे ग्राम पंचायत सरपंच अवैध बता रहे हैं इस मामले में क्या कार्रवाई होती है? दोनों पक्षों के जमीनी विवाद में पुलिस द्वारा दोनों पक्षों पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। एसडीएम मुलताई द्वारा उक्त मामले की स्पष्ट जांच के बाद निर्णय लिया जाएगा।