समाजसेवी वरिष्ठ अधिवक्ता अय्युब मंसूरी ने किए हरिद्वार में धर्मस्थलों के दर्शन

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 
गंगा जमुनी तहजीब को कायम रखने के प्रयास में लगे सारणी के वरिष्ठ अधिवक्ता और समाजसेवी अय्युब मंसूरी ने हरिद्वार में हर की पौड़ी और ओम आकार तथा मंदिरों के दर्शन कर एक बार फिर गंगा जमुनी तहजीब कायम करने का प्रयास किया है। कुछ दिन पूर्व नगर के प्रतिष्ठित व्यापारी राकेश टोरिया के घर हनुमान चालीसा में पहुंच कर माइक द्वारा हनुमान चालीसा पाठ पढ़ने पर पुष्प वर्षा से उनका स्वागत किया गया था।


मोक्ष धाम में कई अंत्येष्टि का मौन धारण करना ,गाय का सफल रेस्क्यू करना हो या किसी भी धर्म स्थल में जाकर प्रसादी ग्रहण करने वाले मुस्लिम धर्म को माने वाले पहले व्यक्ति है जो सारणी में किसी भी धर्म के कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं ।
जब उनसे पूछा गया कि अपने जीवन की सबसे बडी सफलता किसे मानते हैं तो उन्होंने बताया कि सारनी के यूनियन नेता राकेश की बहन की शादी के वक्त तुलसी विवाह वाली रात 1:00 बजे तक पंडित के नहीं मिलने पर जब उन्होंने स्वर्गीय मालती दुबे के आग्रह पर गायत्री मंत्र के उच्चारण से दूल्हा दुल्हन को वरमाला पहनाकर शादी रचाई थी वह उनके जीवन का सबसे सफल दिन था।


बचपन से अपने घर पाल पोस कर बड़ी की गई प्रियंका नाम बेटी की हिंदू रीति रिवाज से शादी कर कन्यादान भी करना उनके जीवन के सबसे यादगार पल है। कहते हैं उन्होंने आधा हज तब ही कर लिया था यही कारण है की मोहल्ले में होने वाले दीपावली की आतिशबाजी हो या होली का उत्सव, पूरे मोहल्ले में सभी पहले मंसूरी के आने का इंतजार करते हैं तभी त्यौहार मनाया जाता है ।यही गंगा जमुनी तहजीब हम सब भी कायम करें।