मासूम को खरीद नातरा कराने वाले पर पाक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज

Scn news india

मनोहर

खंडवा -खंडवा के खालवा से नाबालिग बच्ची को बेचे जाने एवं ओंकोरश्वर में भास्कर रनावड़े द्वारा खरीदी कर  नाबालिग बालिका से नातरा करने की सूचना पर हरकत में आई पुलिस ने ताबड़तोड़ कारवाही करते हुए बच्ची को मुक्त कराया है।  बताया जा रहा है की खण्डवा निवासी भास्कर रनावड़े  नमक शख्स ने बच्ची का सौदा कर ओम्कारेश्वर ले कर आया था। कलेक्टर श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल के निर्देश पर जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास श्रीमती अंशुबाला मसीह, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व पुनासा डॉ. ममता खेड़े, तहसीलदार पुनासा श्रीमती सीमा कनेश एवं नायब तहसीलदार मान्धाता श्री उदयसिंह मण्डलोई तथा स्थानीय थाना स्टॉफ को अधीनस्थ कर्मचारियों के दल के साथ ओंकारेश्वर भेजा गया।

अधिकारियों के इस दल द्वारा मामले की जांच उपरान्त नाबालिग बालिका को खण्डवा निवासी भास्कर रनावड़े द्वारा एक लाख रूपये राशि में स्थानीय दलालों से सौदा करने के उपरांत ममलेश्वर मंदिर में नातरा की रस्म करते हुए पकड़ा गया। थाना प्रभारी मांधाता द्वारा प्रकरण में पाक्सो एक्ट एवं अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

क्या है नातरा प्रथा 

जिले में  कुछ जातियों में बच्चों की शादियां बचपन में ही तय कर दी जाती हैं। कई बार बचपन में  ही शादी हो जाती हैं, तो कभी सगाई करके रिश्ता पक्का कर लिया जाता है। उम्र कम होने से बच्चियां ससुराल नहीं जातीं, या अन्य कारणों के चलते विवाद की स्थिति बन जाती है। विवाद में लड़का पक्ष लड़की पक्ष के लाेगाें से झगड़ा के रूप में मोटी रकम मांगता है। रकम नहीं चुकाने पर गांव में  आगजनी की घटनाओं को अंजाम दिया जाता है। इसका हर्जाना भी लड़की पक्ष को ही चुकाना पड़ता है, इसे ही झगड़ा प्रथा कहते हैं। वहीं, एक जगह शादी तय होने के कारण लड़की यदि दूसरे से शादी करती है तो उसे नातरा प्रथा कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.