बीच नदी में मिलने आए थे दो प्रेमी, हजारों लोगों ने कर दिया पथराव, सैकड़ों लोग होते है घायल

Scn news india

नितिन जैस्वाल 

छिंदवाड़ा/पांढुर्ना। प्रतिबंध के बावजूद 17वीं सदी की एक घटना आज भी दोहराई जाती है। कई थानों की पुलिस तैनात है। धारा 144 लगी है। इसके बावजूद भी यहां हजारों लोग पथराव करते हैं। इस खूनी खेल में कई लोगों की जान भी चली जाती है। घायलों की संख्या भी हजारों में पहुंच जाती है।

पांढुर्ना में पोला पर्व के दूसरे दिन विश्व प्रसिद्ध गोटमार मेले (Gotmar Mela Pandhurna 2021) में यहां पथराव करने की परंपरा है। इस खूनी खेल में कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इसे देखते हुए प्रशासन ने एंबुलेंस और डॉक्टर भी तैनात कर दिए हैं। सांवरगांव और पांढुर्ना में लोगों के इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनाए हैं, जहां घायलों का इलाज किया जाएगा।