मौसम विभाग का अनुमान, अगले 7 दिनों में देश के कई हिस्सों में भारी बारिश और तुफान की आशंका

Scn news india
मनोहर
मौसम विभाग की पूर्वानुमान के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, विदर्भ, मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान के कुछ हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों में एक बार फिर बारिश की गतिविधियां तेज हो गई हैं। अब बरसात की यह गतिविधियां तेज होंगी। मध्य भारत के कई हिस्सों विशेषकर ओडिशा, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, विदर्भ, मराठवाड़ा, कोंकण और गोवा, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी राजस्थान के साथ-साथ गुजरात के कुछ हिस्सों में व्यापक रूप से फैलेगी।
दक्षिणी आंध्र तट पर पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक अन्य चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र पश्चिम मध्य और उससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ है, जो 6 सितंबर को निम्न दबाव का क्षेत्र बना सकता है।
भारी बारिश और तुफान की संभावना
मौसम विज्ञानियों के अनुसार, यह निम्न दबाव का क्षेत्र धीरे-धीरे ओडिशा, दक्षिण छत्तीसगढ़, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, विदर्भ और दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश तक फैल जायेगा। बंगाल की खाड़ी से मध्य प्रदेश तक पहुँचने के दौरान, यह पूरे मध्य भारत में व्यापक रूप से व्यापक बारिश और गरज के साथ बौछार की गतिविधियां दिखने की उम्मीद हैं।
6 से 9 सितंबर के बीच इन हिस्सों में होगी बारिश
मानसून की वृद्धि पश्चिमी तट पर विशेष रूप से कोंकण और गोवा और तटीय कर्नाटक में भी सक्रिय हो जाएगी, जिससे तीव्र बरसात और गरज के साथ गतिविधियां होंगी। मानसून की अक्षीय रेखा अब अपनी सामान्य स्थिति के उत्तर में है। जिसके कारण 6 से 9 सितंबर के बीच दिल्ली के कई हिस्सों समेत उत्तर प्रदेश, बिहार के कुछ हिस्सों, झारखंड, पश्चिम बंगाल में बारिश और गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।
दैनिक औसत से अधिक होगी बरसात
मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि इस दौरान देश में बरसात दैनिक औसत से अधिक होगी। जिससे मौजूदा बारिश की कमी 9 प्रतिशत से कम हो जाएगी और संभावना है कि सितंबर में सामान्य से थोड़ा अधिक बारिश हो सकती है। सप्ताह के अंत तक हम उम्मीद है कि पूरे भारत में बरसात की कमी कुछ हद तक कम हो जाएगी।