कोविड मे मानसिक सहारे से अनेकों को मिला जीवनदान – राजयोगिनी आशा दीदी

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 

कोविड–19 महामारी के दौरान अनेक लोगों की मृत्यु सिर्फ इसलिए हो गई की उन्हे उस समय मानसिक सहयोग नहीं मिल पाया | ब्रह्माकुमारीज के अनेक सेवाकेन्द्रों ने महामारी के उस दौर में न सिर्फ स्वयं कोरोना दिशानिर्देशों का पालन किया बल्कि सेवाकेन्द्र मे रह रहे एवं संबंध संपर्क के लोगों को भी अन्य सहयोग के साथ मानसिक एवं भावनात्मक सहयोग भी दिया | मानसिक एवं भावनात्मक सहयोग पाकर पीड़ितों में हिम्मत एवं उमंग उत्साह का संचार हुआ | उनके अंदर से नकारात्मक फीलिंग निकल कर सकारात्मक सोच जागृत हुई जिससे उनके अंदर का भय खत्म हुआ और वे महामारी को हराने में सफल हुए | उक्त विचार ब्रह्माकुमारीज सहस्त्रबाहु नगर एवं राजयोग शिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान के प्रशासक प्रभाग द्वारा आयोजित “कोविड–19 के बाद का सुप्रशासन – चुनौतियाँ एवं संभावनाएं” विषय पर आयोजित कार्यक्रम में दिल्ली से पधारी प्रशासक प्रभाग की राष्ट्रीय अध्यक्षा राजयोगिनीं ब्रह्माकुमारी आशा दीदी ने व्यक्त किए | आशा दीदी जी इस समय  त्रिदिवसीय भोपाल प्रवास पर हैं |

कार्यक्रम में राज्य आनंद संस्थान के मुख्य  कार्यपालक अधिकारी अखिलेश अर्गल जे नें कहा की हम थोड़ी देर के लिए खुश होते हैं , परंतु उस खुशी को लंबे समय तक बरकरार नहीं रख पाते | हमारा उद्देश्य उस खुशी को लंबे समय तक महसूस करने की  विधिया एवं माध्यम की पहचान कराना है | साथ ही उन्हे अपनाकर जीवन को खुशी से भरना है | ठीक इसी तरह से जब हमे क्रोध, निराशा या हताशा आए तो अल्प विराम के माध्यम से ऐसे संकल्पों से मुक्त हो सकते है |

कार्यक्रम में हेमराज सूर्यवंशी जी,  नैशनल हेड, मिनरल रिसोर्स असेसमेंट तथा विभागाध्यक्ष, मध्य क्षेत्र (म. प्र. एवं छ. ग. ) जिओलाजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा की कोरोना के बाद प्रशासन के तौर तरीके बदल गए हैं | ऐसे मे सुप्रशासन मे चुनौतियाँ हैं | प्रशासन में मूल्यों की धारणा से  सुप्रशासन के कार्य को आगे बढ़ाने मे मदद मिलेगी |

 

ब्रह्माकुमारीज, भोपाल ज़ोन की क्षेत्रीय प्रभारी, एवं प्रशासक प्रभाग की राष्ट्रीय संयोजिका राजयोगिनी बी. के. अवधेश दीदी  जी ने कहा कि  सम्पूर्ण मध्यप्रदेश में सुप्रशासन एवं मूल्यनिष्ठ प्रशासन की स्थापना करना ही इस ऐसे कार्यक्रमों  का उद्देश्य हैं |

 

प्रशासक प्रभाग, दिल्ली ज़ोन की क्षेत्रीय संयोजिका बी. के. ऊर्मिल दीदी जी ने मेडिटेशन के महत्व को बताया एवं सभी को राजयोग के विधि बताई एवं अनुभूति कराई |

 

दिल्ली ओम शांति रिट्रीट सेंटर से पधारी बी के ख्याति बहन ने सभी को वैल्यूज की एक्सर्साइज़ कराई |

 

सेवाकेन्द्र प्रभारी बी. के. डॉ रीना दीदी ने सभी का स्वागत किया|

कार्यक्रम में बच्चों ने डांस की सुंदर प्रस्तुतियाँ दी |