मंडला जिले के एक छोटे से गांव के युवा शिक्षक शक्ति पटेल को राष्‍ट्रपति ने किया सम्‍मानित

Scn news india

शारदा श्रीवास ब्यूरो मंडला

मंडला जिले के मांद हाईस्कूल के शिक्षक शक्ति पटेल को शिक्षक दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति पुरस्कार मिल गया है। पटेल ने यह पुरस्‍कार वर्चुअल ग्रहण किया। शक्ति दो दिन पहले ही भोपाल पहुंच चुके हैं। बता दें कि शक्ति पटेल को यह पुरस्कार मात्र 32 वर्ष की उम्र में मिला है। कोरोनाकाल में स्कूल बंद होने के बाद शिक्षक शक्ति पटेल ने आनलाइन माध्यम से तो सीधे तौर पर बच्चों को पढ़ाया।युवा शिक्षक को सम्मान मिलने पर अन्य साथी शिक्षकों के लिए भी यह प्रेरणा का काम करेगा। दरअसल यह पुरस्कार इसलिए भी खास है क्योंकि देशभर के शिक्षकों के साथ मिलने जा रहे इस पुरस्कार में मप्र से वे एकमात्र शिक्षक है। जिनका चयन पुरस्कार के लिए हुआ था।

पिता की प्रेरणा से भरा था फार्म: मंडला जिले के बिछिया तहसील के हाईस्कूल मांद गांव में माध्यमिक शिक्षक शक्ति पटेल हिंदी विषय पढ़ाते हैं। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति पुरस्कार के लिए आवेदन करने उनके पिता ने ही उन्हें मोटीवेट किया। पहले ही प्रयास में राष्ट्रपति पुरस्कार मिल गया। सहसा विश्वास नहीं होता। मैने फार्म भरते समय भी यह नहीं सोचा था। मुझे लगता था, मेरे से सीनियर काफी लोग हैं, जो पुरस्कार के काबिल हैं। मै तो राज्यस्तर के पुरस्कार तक ही अपने आप को मान रखा था। पर अब मुझे लग रहा है कि मैने जो किया है। उसकी उपलब्धि की वजह से ही मुझे पुरस्कृत किया जा रहा है।