मित्रता के घाती जरा कान खोलकर सुन लेना,रामजी के बेटों को राफेल मिल गया है:शशिकांत यादव शशि

Scn news india

दिलीप पाल 
भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष यशवंत यादव के जन्मदिन को शब्दसंस्कार के रूप में मनाया,कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ

आमला. भारतीय जनता पार्टी ग्रामीण मंडल आमला के मंडल अध्यक्ष यशवंत यादव प्रतिवर्ष अपने जन्मदिन को कुछ खास और विशिष्ट अंदाज़ में मनाते हैं।इस बार भी ये जन्मदिन का अवसर खास ही रहा।जन्मदिन के अवसर पर उनके समर्थकों ने अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया।बोरधई के बाज़ार चौक में कवि सम्मेलन का आयोजन हुआ।

इस अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में राष्ट्रीय कवि शशिकांत यादव जी सहित देश के ख्याति प्राप्त कवियों ने शिरकत की और काव्यरस बिखेरा।
जन्म महोत्सव में मुख्य अतिथि के तौर पर डॉ योगेश पंडागरे विधायक आमला उपस्थित थे।साथ ही अन्य अतिथियों में डॉ अरुण जयसिंह पुरे रेडक्रास सोसायटी बैतूल, यशवन्त यादव भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष आमला,यदुराज सिंह रघुवंशी भाजपा खेड़ली मोरखा मंडल आदि उपस्थित थे।कार्यक्रम के प्रारंभ में यशवन्त यादव जी के जन्मदिन पर अतिथियों की उपस्थिति में केक काटा गया।अपने आतिथ्य उद्बोधन में डॉ योगेश पंडागरे विधायक आमला ने कहा कि यशवंत यादव जी के जन्मदिन पर कवि सम्मेलन जैसा इस प्रकार का सार्थक आयोजन लोगो के लिये अच्छे कार्य संपादन के लिये प्रेरणादायी होता है मैं शुभकामनाए प्रेषित करता हु।
वाग्देवी माँ सरस्वती के पूजन अर्चन से कार्यक्रम प्रारम्भ हुआ।


कार्यक्रम का आगाज़ भोपाल से पधारी नम्रता श्रीवास्तव के सरस्वती वंदना के साथ हुआ।
“मित्रता के घाती ज़रा कान खोलकर सुन लेना!
रामजी के बेटों को राफेल मिल गया”शशिकांत यादव शशि की पंक्तियों ने जोश भरा।
बेटी है तो कल है पर शानदार कविता अंतु झक्कास ने प्रस्तुत की।”मुझे पाषाणों मे बनाने वाले मै पाषाणों सा होना नही चाहती!
मेरे बच्चे मेरी छाती का दूध पीते है मै प्रतिमाओं मे खोना नही चाहती !गाय पर कविता जिले के सुप्रसिद्ध कवि पुष्पक देशमुख ने सुनाकर सदन की तालियां बटोरी।”जब तक दानव ज़िंदा होंगे इंसानों के भेष मे,तब तक बेटी नही सुरक्षित मेरे भारत देश मे जैसी शानदार काव्य की प्रस्तुति रामानंद बेले राजन ने दी।
” आँचल भिगोना छोड़ दे अश्क़ों से बेटियाँ!समझें कि कुछ भी कम नहीं बेटों से बेटियाँ! सुनाकर बहुमुखी प्रतिभा के धनी कवि और गीतकार कैलाश सलाम ने श्रोताओं की खूब तालियां बटोरी।
कवि सम्मेलन के सूत्रधार क्षेत्र के युवा कवि दीपक यदुवंशी ने ” हम मुरलीधर के वंशज है बाँसुरी अगर बजाई है तो सुदर्शन भी चलाना आता है ! सुनाकर उपस्थित श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध किया।
भोपाल से पधारी कवियत्री नम्रता श्रीवास्तव ने श्रृंगार रस की बेहतरीन कविता सुनाकर लोगो का भरपूर मनोरंजन किया और लोगो को श्रृंगार रस के काव्य से सराबोर किया।
देर रात तक चले इस कवि सम्मेलन में श्रोताओं ने भरपूर लुफ्त उठाया।काव्य के रसास्वादन हेतु बड़ी संख्या में श्रोता जुटे थे जो कार्यक्रम के अंत तक उपस्थित रहे।
सभी कवियों को आयोजन समिति की ओर से स्मृति चिन्ह भी प्रदान किये गए।कार्यक्रम के अंत मे यशवंत यादव ने सभी का आभार प्रदर्शन किया और धन्यवाद ज्ञापित किया।
कार्यक्रम में अन्य अतिथियों में भवानी सूर्यवंशी,किशन सिंह रघुवंशी,भगवंत सिंह रघुवंशी,यदुराज रघुवंशी, चिरौंजी पटेल,अशोक नागले,सुरेश साहू,नंदन साहू,संजय सूर्यवंशी,गोकुल यदुवंशी,ललित साहू,मनोज विश्वकर्मा,अनीश साहू,आनंद यादव,गुड्डू सोनी,प्रदीप ठाकुर,राजेश पंडोले,प्रमोद हारोडे,अकरम खान,सतीश साहू,संजय बिंझाड़े,मनीष खंडागरे,आदि प्रमुख अतिथि उपस्थित थे।