कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान द्वितीय चरण के सफल संचालन हेतु प्रेस वार्ता आयोजित

Scn news india

अल्केश साहू ब्यूरों 

बैतूल -कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान द्वितीय चरण (25 एवं 26 अगस्त 2021) के सफल संचालन हेतु 24 अगस्त मंगलवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के सभाकक्ष में प्रेस वार्ता आयोजित की गई। प्रेस वार्ता में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. ए.के. तिवारी ने बताया कि अब तक प्रथम डोज के 707134 एवं द्वितीय डोज के 144977 पात्र नागरिक टीकाकृत हो चुके हैं। दो दिवसीय अभियान के तहत 80000 लोगों को टीकाकृत किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यह अभियान जिले के 277 केन्द्रों पर संचालित किया जायेगा। शासन द्वारा आयोजित इस अभियान का उद्देश्य शत-प्रतिशत कोविड टीकाकरण एवं छूटे हुये लोगों में जनजागृति लाकर कोविड का टीका लगवाना है।
उन्होंने कहा कि प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारगण शासन के इस महत्वपूर्ण अभियान में सहयोग कर सकारात्मक वातावरण का निर्माण करें, ताकि अधिकाधिक टीकाकरण हो सके। उन्होंने बताया कि दोनों ही वैक्सीन उपयोगी एवं लाभप्रद है, नागरिकों को को-वैक्सीन या कोविशील्ड  उपलब्धता के आधार पर लगवाना चाहिये। आगामी कोविड की संभावित तीसरी लहर से वचने हेतु कोविड का टीकाकरण अत्यावश्यक है।
अभियान के अंतर्गत कोविड का टीका लगाने वाले हितग्राहियों को वैक्सीनेशन के महाअभियान का हिस्सा बनने पर अर्थात दो डोज पूर्ण होने यानि सुरक्षा कवच सम्पूर्ण होने पर पहली डोज लगाने पर हाथ पर ‘आई एम वैक्सीनेटिंग’ एवं दोनों डोज पूर्ण होने पर ‘आई एम वैक्सीनेटेड’ का स्टाम्प लगाया जायेगा। महाअभियान के दौरान वैक्सीन लगवाने आये प्रत्येक नागरिक के हाथ के पंजे के पीछे की तरफ  यह सील/स्टाम्प टीकाकरण के पश्चात् लगाया जायेगा। एक टिक वाले स्टाम्प का अर्थ होगा कि व्यक्ति को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है, जबकि दो टिक वाले स्टाम्प का अर्थ होगा कि व्यक्ति को वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं और वह वैक्सीनेट हो चुका है। हितग्राही वैक्सीनेशन के उपरांत अपनी दो उंगलियों से व्ही बनाते हुये सेल्फी के द्वारा यह संदेश देंगे कि ‘आई एम वैक्सीनेटेड’ तथा अपनी फोटो सोशल मीडिया पर  #MPVaccinationMahaAbhiyan2 के साथ अपलोड करें और लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक करें।
वैक्सीन लगाते समय इन नियमों का भी ध्यान रखें की यदि वैक्सीन की पहली डोज के बाद कोरोना संक्रमित हुये हैं तो दूसरी डोज संक्रमण से मुक्त होने के तीन महीने के अंतराल के बाद ही लगेगी। यदि व्यक्ति कोविड के अलावा अन्य बीमारी की वजह से अस्पताल में भर्ती होता है तो ठीक होने के 4 से 8 सप्ताह के बाद उस व्यक्ति का टीकाकरण हो सकेगा। स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिये भी टीकाकरण सुरक्षित है। प्रथम डोज लगाने के बाद द्वितीय डोज लगाया जाना उपयोगी एवं अनिवार्य है। सीएमएचओ ने आमजन से अपील की है कि टीकाकरण के लिये सबको प्रेरित करें। यह एक पुण्य का कार्य है, जिन नागरिकों ने प्रथम डोज लगवा लिया है वह लापरवाही न करें, दूसरा डोज अवश्य लगवायें।
प्रेस वार्ता में जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविन्द कुमार भट्ट, जिला मीडिया अधिकारी श्रीमती श्रुति गौर तोमर सहित प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार गण उपस्थित रहे।