चारपाई पर हुई प्रसूता की डिलेवरी – विकास के तमाम दावों की पोल खोलने वाली तस्वीरें

Scn news india

शारदा श्रीवास ब्यूरो मंडला 

मंडला सरकारी वाहन न मिलने पर परिजन ने निजी वाहन बुलाया लेकिन वो भी कीचड़ में फंस गया।
चारपाई से वाहन तक प्रसूता को ले जाना पड़ा
मध्यप्रदेश में एक बार फिर विकास के तमाम दावों की पोल खोलने वाली तस्वीरें सामने आई है। तस्वीरें आदिवासी जिले मंडला की हैं। जहां बिछिया डुंगरिया गांव में एंबुलेंस न मिलने की वजह से एक गर्भवती महिला को चारपाई पर लेटाकर अस्पताल के लिए ले जाना पड़ा। इस दौरान बीच रास्ते में ही महिला का प्रसव हो गया। बताया गया कि न ही जननी एक्सप्रेस को फोन लग सका और न ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तक वाहन पहुंच सका।

परिजनों ने डॉयल 100 को भी फोन लगाने की कोशिश की लेकिन नहीं लगा।बिछिया के डुंगरिया के उमर टोला में रहने वाले राकेश धुर्वे की गर्भवती पत्नी सुनीता को प्रसव पीड़ा हुई। पति राकेश ने बताया कि उसने सभी लगाए लेकिन कहीं से भी मदद नहीं मिली, दूसरी ओर पत्नी सुनीता की हालत खराब होती जा रही थी ऐसे में परिवार के एक सदस्य को निजी वाहन की व्यवस्था करने के लिए भिजवाया गया। परिजन निजी वाहन लेकर घर आ रहे थे लेकिन वाहन उमर टोला के दलदली मार्ग में फंस गया। बाद में गर्भवती महिला सुनीता को चारपाई के जरिए ग्रामीणों की मदद से वाहन तक पहुंचाया गया। वाहन स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचता इससे पहले रास्ते में ही सुनीता को प्रसव हो गया। जच्चा बच्चे को बचा लिया गया है और दोनों ही जिला अस्पताल में भर्ती हैं।