कर्ज से डूबी किसान अल्प वर्षा से परेशान, सरकार से किसानों की मांग कर्ज माफ कर सूखा घोषित करें :- मलिखम कोसरे

Scn news india

हेमंत वर्मा 

सावन मास की अंतिम सप्ताह चल रही हैं लेकिन मौसम की बेरुखी से गरीब किसानो की चिंता के कारण माथे की लकीरें गहरी होती दिख रही हैं। इस वर्ष बारिस लगे लगभग तीन माह होने को जा रहा है लेकिन अभी फसल के अनुकूल बारिश नही हो पाई है। जिससे अधिकांश किसान भाइयों का फसल सुख कर मर गया है और जो बचा उसको जानवर साफ करने में लगा हुआ है। जिससे की चिंताएं बढ़ने लगी है। देखा जाए तो राजनांदगांव से लगे गांव बोरी, गठुला, तिलई, कांकेतरा, सिंगपुर, मोहबा, बुन्देली कला, डोमहटोला,धोराभाठा, डूमरडीहकला,देहान,खपरीखुर्द, चवेळी, बासुला, पदुमतरा,बोइरडीह, जोरातराई,भाठागांव,खेरझिटी और आस पास के किसान अपने फसल को बर्बाद होते देख रहे है लेकिन कुछ कर भी नही पा रहे हैं,क्योकि ऊपर वाले कि मनशा के आगे किसी की चलने वाली नही है।


अब किसान भाइयों ने सरकार से गुहार लगाई है और उम्मीद लगाये है कि सरकार किसानों का कर्ज माफ करे, और सूखा घोषित कर किसानों को सान्तवना प्रदान करें।
किसान भाइयों के मांग पर मलिखम कोसरे सदस्य प्रदेश भाजपा अनु, जाति मोर्चा छत्तीसगढ़ ने भी सहमति दी और आसपास के प्रमुख किसान भाइयों कामता साहू,महेश यादव,महेन्द्र देवांगन,टाकेश सिन्हा, जागेश्वर साहू, मलिखम कोसरे, उमेन्द्र साहू,खम्मन साहू,देवशरण साहू,रिखीराम साहू,कालूराम साहू,भीखेस देवांगन, जगत देवांगन, मुरली साहू,मुकेश साहू,दीनाराम साहू, तोरण साहू,धनेश साहू, दिनेश ठाकुर, लोमेश वर्मा,सरजू वर्मा,अजय वर्मा,समलिया वर्मा,गेमलाल देवांगन, ठाकुरराम देवांगन, लालाराम देवांगन, गोवर्धन साहू,चतुर्भुज वर्मा, रामलाल वर्मा,साहूकार वर्मा,होश कुमार साहू,लेखु साहू, रेवाराम साहू, लेखराम वर्मा आदि सभी किसानों ने सरकार से कर्ज माफ करने की मांग की। ताकि किसान भाईयो को इस वर्ष फसल से हुई छति से उबर सके।