चिल्कापुर में निःशुल्क अनाज मिलने पर लोगों ने जताई खुशी विधायक व सांसद प्रतिनिधि ने बांटा राशन

Scn news india

भरत साहू 
चिल्कापुर। आदिम जाति सेवा सहकारी समिति चिल्कापूर में शासन के निर्देशानुसार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत क्षेत्रीय विधायक धरमूसिंग सिरसाम की अध्यक्षता एवं भाजपा नेता व सांसद प्रतिनिधि धनराज साहू अधिवक्ता के मुख्य आतिथ्य में अन्न उत्सव कार्यक्रम आयोजित कर हितग्राहियों को निशुल्क राशन वितरित किया गया। कार्यक्रम में निशुल्क राशन मिलने पर हितग्राहियों ने खुशी जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति आभार जताया। सोसाइटी प्रबंधन की ओर से कार्यक्रम स्थल पर एलईडी टीवी एवं लैपटॉप की व्यवस्था की गई थी जिसके माध्यम से प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के लाइव कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया गया।

समिति की ओर से अतिथियों का जोरदार स्वागत किया गया। मुख्य अतिथि धनराज साहू ने मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन कर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गरीबों के हित में केंद्र एवं राज्य शासन द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के संदर्भ में लोगों को विस्तृत जानकारी प्रदान की तथा उन्होंने कहा कि प्रदेश एवं केंद्र की भाजपा सरकार हर समय किसानों व गरीबों के साथ खड़ी रहकर उनके उत्थान के लिए जुटी हुई है। जिसमें कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। भाजपा के शासनकाल में प्रदेश का चहुमुखी विकास हो रहा है।

कार्यक्रम को संबोधित करते विधायक धरमूसिंग सिरसाम ने कहा कि सरकार को किसानों एवं आपदा पीड़ितों की भी चिंता करना चाहिए ताकि उनकी माली हालत सुधर सके। समिति प्रबंधक पांडुरंग ठाकरे ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए सोसाइटी का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। कार्यक्रम को पूर्व संचालक दादूराव पाटनकर एवं विजय पटेल ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर भाजपा नेता लालाराम साहू, राजकुमार बोड़खे, अशोक बारस्कर,सरपंच धर्मराज कास्देकर, उपसरपंच निलेश राने, केशोराव बारस्कर,दिलीप राने, गुलाबराव चढ़ोकार, अजाब बोड़खे, धर्मराज बारस्कर तथा कांग्रेस नेता व विधायक प्रतिनिधि अशोक अड़लक, डॉ.दिनेश दवन्डे, विश्वनाथ बोड़खे,वासुदेव बारस्कर,अरूण दवंडे,टुकड्या देशमुख, कैलाश नाकतुरे व नायब तहसीलदार श्री राजपूत विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। देवीदास कारे ने सभी अतिथियों का आभार माना। कार्यक्रम को सफल बनाने में समिति के सेल्समेन अशोक सावरकर, देवीदास कारे, वारु मस्की एवं स्टाफ का विशेष योगदान रहा।