उपनिरीक्षक पंकज सूर्यवंशी ने बढ़ाई खाकी की शान,पुलिस महानिदेशक ने किया सम्मानित

Scn news india

अल्केश साहू 
उत्कृष्ट स्तर के अनुसंधान एवं अभियोजन कार्य के लिए पुलिस महानिदेशक ने किया सम्मानित
पंकज की तकनीकी जांच के आधार पर आरोपी पहुंचा सलाखों के पीछे
एक करोड़ अर्थदंड और 10 वर्ष सश्रम कारावास का संभवतः पहला मामला

बैतूल। जिले के मुलताई निवासी एवं बतौर सहायक राज्य परीक्षक भोपाल में पदस्थ पंकज सूर्यवंशी ने एक बार फिर जिले का नाम रोशन करते हुए खाकी की शान बढ़ाई है। उत्कृष्ट स्तर के अनुसंधान एवं अभियोजन कार्य के लिए पुलिस महानिदेशक ने उपनिरीक्षक पंकज सूर्यवंशी को सम्मानित किया है।
उल्लेखनीय है कि क्यू.डी. शाखा में पदस्थ हस्तलिपि विशेषज्ञ उपनिरीक्षक क्यूडी पंकज सूर्यवंशी द्वारा घाटपिपरिया, ब्राम्हणवाडा एवं जूनावानी जलाशय निर्माण का ठेका लेने के लिए थाना मुलताई के अपराध क्रमांक 648/18 में आरोपी राहुल कुशवाह द्वारा कूट रचना करने के प्रकरण में प्राथमिकता के आधार पर परीक्षण कर अभिमत दिया गया था। पंकज सूर्यवंशी ने दस्तावेजों में की गई हेराफेरी एवं कूटरचना को दर्शित किया और न्यायालय में उपस्थित होकर महत्वपूर्ण न्यायालयीन साक्ष्य प्रस्तुत किये थे। उक्त अपराध प्रकरण में धारा 420,467,468, 471 भादवि में त्वरित कायमी दर्ज हुई थी, तत्कालीन विवेचक राजेंद्र सयदे द्वारा उक्त प्रकरण की विवेचना की गई थी।


न्यायालय द्वारा क्यू.डी. शाखा के विशेषज्ञ अभिमत के आधार पर आरोपी को 10 वर्ष सश्रम कारावास एवं एक करोड़ रूपये के आर्थिक दंड की सजा सुनाई गई। प्रकरण में पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने उत्कृष्ट विवेचना के लिए उपनिरीक्षक पकंज सूर्यवंशी और उपनिरीक्षक राजेन्द्र सयदे को दस-दस हजार रूपए के नगद ईनाम से पुरूस्कृत किया है। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक ने उपनिरीक्षक पंकज सूर्यवंशी और राजेन्द्र सयदे की सराहना की। उन्होंने भविष्य में भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की बात कही।
–ये है मामला–
पुलिस मुख्यालय के अनुसार जिला बैतूल की मुलताई तहसील के रहने वाले राहुल कुशवाह ने बैतूल के घाटपिपरिया, ब्राम्हणवाडा एवं जूनावानी जलाशय निर्माण का ठेका प्राप्त करने के लिए दस्तावेजों में हेराफेरी एवं कूटरचना कर भारतीय स्टेट बैंक , सेंधवा शाखा की फर्जी एफडीआर तैयार की थी। इस मामले में पंकज सूर्यवंशी ने तकनीकी जांच की थी। जांच में पाया गया कि दस्तावेजों में हेराफेरी एवं कूटरचना की गई है। इस आधार पर थाना मुलताई के प्रकरण क्रमांक 648/18 एसटी . 136/19 शासन विरुद्ध राहुल कुशवाह दर्ज कर चालान कोर्ट में प्रस्तुत किया था। सम्भवतः बैतूल जिले का यह पहला मामला है जिसमें माननीय न्यायालय द्वारा इतने बड़े अर्थदण्ड की सजा सुनाई हो।
–एसपी ने की सराहना–
पुलिस अधीक्षक बैतूल सुश्री सिमाला प्रसाद द्वारा प्रकरण में उत्कृष्ट कार्य करने वाले हस्तलिपि विशेषज्ञ पंकज सूर्यवंशी और विवेचक राजेन्द्र सयदे की सराहना की है। उल्लेखनीय है कि पंकज सूर्यवंशी अपनी उत्कृष्ट कार्यदक्षता और विशेष कार्यशैली के लिए पूर्व में भी कई बार माननीय न्यायालय, शासन और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से पुरुस्कृत होने का गौरव प्राप्त कर चुके है। कोरोना संकट काल में भी फ्रंटलाइन कोरोना वारियर्स के रूप में लोगो की सुरक्षा हेतु अनवरत तैनात रहे। मुलताई नगर के एक्सीलेंस स्कूल से पढ़े पंकज सूर्यवंशी आज मुलताई सहित पूरे जिले के युवाओं के लिए जिद,जुनून, मेहनत और सफलता की मिसाल है। उनकी इस सफलता पर एसडीओपी मुलताई सुश्री नम्रता सोंधिया, एक्सीलेंस स्कूल मुलताई के प्राचार्य एवं पर्यावरण मित्र आर.के. मालवीय, उपनिरीक्षक अंकुश सराठे, आरपीएफ एसआई सुश्री पूजा सुर्यवंशी, सुरेश मालवीय, अशोक पचोरिया, डॉ. चन्द्रभान रघुवंशी, विजय सांडिल, सुश्री विज्जु सूर्यवंशी सहित पुलिस विभाग के स्टाफ, मित्र और परिवारजनों ने उन्हें शुभकामनाएं दी।