मुख्यमंत्री ने प्रदान किया ढाई करोड़वां आयुष्मान कार्ड

Scn news india

मुख्यमंत्री ने प्रदान किया ढाई करोड़वां आयुष्मान कार्ड –

हितग्राहियों से किया संवाद
आयुष्मान योजना से प्रदेश में बनेंगे 4.70 करोड़ व्यक्तियों के कार्ड

कामता तिवारी
संभागीय ब्यूरो रीवा
Scn news india
रीवा- मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में मिंटो हाल में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में आयुष्मान-2 योजना का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समारोह में प्रदेश का ढाई करोड़वां आयुष्मान कार्ड श्रीमती धनलक्ष्मी को प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न जिलों के आयुष्मान हितग्राहियों से संवाद किया। समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि आयुष्मान योजना से प्रदेश में 4 करोड़ 70 लाख पात्र व्यक्तियों के कार्ड बनाकर उन्हें नि:शुल्क उपचार की सुविधा दी जायेगी। अब तक ढाई करोड़ कार्ड बनाकर पिछले एक वर्ष में हितग्राहियों को 1200 करोड़ रूपये की उपचार सहायता उपलब्ध करायी गई है। अब किसी गरीब को उपचार के लिये चिंता करने की जरूरत नहीं है। हर गरीब का उपचार सरकार करायेगी। कोरोना संक्रमण काल में सरकारी अस्पतालों के साथ बड़ी संख्या में निजी अस्पतालों को भी आयुष्मान योजना से जोड़कर 12 हजार से अधिक कोरोना पीडि़तों को उपचार सुविधा दी गई।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जब गरीब, किसान अथवा मजदूर किसी गंभीर बीमारी का शिकार होता है तो परिवार पर दोहरी मार पड़ती है। एक तरफ आय बंद होती है तो दूसरी ओर इलाज पर बड़ी राशि खर्च करनी पड़ती है। हर गरीब, मजदूर, किसान को आयुष्मान योजना से साल भर में पांच लाख रूपये तक की उपचार की सुविधा दी जा रही है। इस योजना में वर्ष 2011 के सर्वेक्षण में शामिल परिवारों को लाभ दिया जा रहा है। जिनके लिये 60 प्रतिशत राशि केन्द्र सरकार तथा 40 प्रतिशत राशि प्रदेश सरकार दे रही है। मध्यप्रदेश में इस योजना का लाभ संबल के पात्र परिवारों तथा खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र परिवारों को भी दिया जा रहा है। इसका पूरा खर्च प्रदेश सरकार उठा रही है। मध्यप्रदेश आयुष्मान योजना में देश में प्रथम स्थान पर है।

समारोह में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी तथा अतिरिक्त मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने योजना के संबंध में अपने विचार व्यक्त किये। कलेक्ट्रेट के एनआईसी केन्द्र से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एमएल गुप्ता तथा आयुष्मान हितग्राही वीडियो कान्फ्रेंसिंग में शामिल हुए।