नियमित ट्रेन नहीं होने से बस के महंगे सफर में हल्की हो रही यात्रियों की जेब

Scn news india

रोहित नैय्यर जिला ब्यूरो

जबलपुर। दक्षिण-पूर्व मध्य रेल का जबलपुर-नैनपुर-गोंदिया ब्रॉडगेज टै्रक चौबीस साल में जैसे-तैसे तैयार हो गया है, लेकिन यात्रियों का नियमित रेल सफर का इंतजार अभी समाप्त नहीं हुआ है। परियोजना की बुनियाद रखने से लेकर ट्रैक के उद्घाटन के मौके पर इसे उत्तर और दक्षिण भारत के लिए महत्वपूर्ण रेललाइन होने का दावा किया गया था। दोनों छोर को जोडऩे वाले इस सबसे कम दूरी के ट्रैक से सुपरफास्ट और एक्सप्रेस टे्रन दौड़ाने की बात हो रही है। लेकिन, कोरोना काल की मार में इस रेलमार्ग पर नई ट्रेनें चलाने का मामला उलझ गया।

नियमित ट्रेन नहीं होने से बस के महंगे सफर में हल्की हो रही यात्रियों की जेब

उत्तर से दक्षिण भारत के दो छोर के बीच सप्ताह में सिर्फ एक दिन एक ट्रेन चल रही है। रीवा से आकर जबलपुर होकर नागपुर के लिए सप्ताह में तीन दिन एक एक्सप्रेस चल रही है। नैनपुर-बालाघाट के रास्ते इस रेलमार्ग से रायपुर, नागपुर और बल्लारहशाह की दूरी सवा सौ से पौने तीन सौ किमी तक कम है। इसके बावजूद प्रतिदिन सुपरफास्ट-एक्सप्रेस ट्रेन तो दूर एक अदद पैसेंजर/लोकल टे्रन अभी तक शुरूनहीं की गई है। ट्रेन नहीं होने से बस के सफर में यात्रियों की जेब हल्की हो रही है।

 

जबलपुर-नैनपुर-गोंदिया रेलमार्ग : रायपुर, नागपुर की घटेगी दूरी, फिर भी ट्रेन शुरू करने में हो रही देरी
ट्रायल पर ट्रायल, लेकिन तारीख नहीं: सतपुड़ा नैरोगेज के ब्रॉडगेज बनने के बाद इस रूट पर सबसे ज्यादा इंतजार लोकल/पैसेंजर ट्रेन चलने का हो रहा है। विद्युतीकृत रेलमार्ग होने के कारण पैसेंजर की जगह मेमू टे्रन चलाने का प्रस्ताव है। मेमू का एक रैक कई महीने से नैनपुर स्टेशन पर खड़ा है। इसे गोंदिया से गढ़ा (जबलपुर) और मंडला-नैनपुर-बालाघाट-कटंगी-तिरोड़ी के बीच दौड़ाकर ट्रायल भी लिया जा चुका है। दक्षिण पूर्व मध्य रेल के अधिकारी कई बार ट्रैक का जायजा भी ले चुके हैं। लेकिन, अभी तक मेमू टे्रन चलाने पर निर्णय नहीं हो सका।

पहले चलने वाली ये दो ट्रेन भी बंद: बालाघाट-नैनपुर के ब्रॉडगेज निर्माण कार्य होने के दौरान रेलवे जबलपुर-नैनपुर-चिरईडोंगरी तक प्रतिदिन पैसेंजर ट्रेन का संचालन कर रहा था। जबलपुर-गोंदिया ब्रॉडगेज बनने के बाद मैमू सेवा शुरु करने का प्रस्ताव देकर जबलपुर-चिरईडोंगरी का संचालन बंद कर दिया गया। इस टे्रन के समय पर कुछ दिन बाद जबलपुर से चांदाफोर्ट के लिए सुपरफास्ट चलाई गई, लेकिन कोरोना बढऩे पर बंद की गई ये ट्रेन शुरूनहीं हो पाई है।