अंधे हत्याकांड का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

Scn news india

नवनीत गुप्ता जिला ब्यूरों 

कटनी पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने अंधे हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपियों ने लूट की योजना बनाने के बाद प्रौढ़ को झांसा देकर बुलाया और उसकी हत्या करके शव विजयराघवगढ़ के चपना-दड़ौरी के पास फेंका था। मृतक की पत्नी ने एनकेजे निवासी ही अरबाज खान पर संदेह व्यक्त किया था।

जिसके बाद पुलिस ने संदेह के आधार अरबाज खान को हिरासत में लेकर पूछताछ की जिसमें उसने अपने साथी एनकेजे निवासी विवेक छबार व बरगवां निवासी दानिश अली के साथ हत्या की वारदात करना स्वीकार कर लिया। आरोपियों ने प्रौढ़ की हत्या के बाद उसके घर में लूट की योजना बनाई थी लेकिन वे सफल नहीं हो पाए थे।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि एसडीओपी शिखा सोनी, विजयराघवगढ़ टीआई सुधाकर बारस्कर, एनकेजे प्रभारी नीरज दुबे व टीम को आरोपियों की पतासाजी में लगाया गया था। पकड़े गए तीनों आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस बताया कि उनका धीरेंद्र पांडेय के साथ उठना-बैठना था और उसके पास पैसा अधिक है इसकी जानकारी उन्हें थी। उसके घर में लूट करने के इरादे से झांसा देकर आरोपियों ने छपरवाह के पास बुलाया जहां चाकू, गुप्ती से हमला कर उसकी हत्या कर दी और फिर कार को आग के हवाले कर दिया। मृतक का शव फेंकने के बाद उसकी पत्नी की हत्या और घर में लूट की साजिश भी आरोपियों ने रची थी लेकिन कार में आग लगाते समय आरोपी दानिश झुलस गया था जिससे इस वारदात में सफल नहीं हो पाए।

चार दिन पूर्व मिली थी रक्त रंजित लाश

कटनी दुबे कालोनी निवासी धीरेंद्र पांडेय पिता शिवनारायण पांडेय (56) का शव विजयराघवगढ़ थानंातर्गत चपना हरदुआहार भठिया में हथेड़ा रोड के पास शुक्रवार को मिला था। मृतक के शरीर पर चोट के निशान पाए जाने पर पुलिस ने प्रथम दृष्ट्या हत्या का मामला दर्ज कर आरोपियों की पतासाजी प्रारंभ की थी। विवेचना में यह तथ्य सामने आए थे कि आरोपियों ने प्रौढ़ की हत्या अन्यत्र करने के बाद अमकुही की पहाड़ी में मृतक की कार जला दी थी। इसके बाद आरोपियों ने मृतक का शव विजयराघवगढ़ थाना क्षेत्र के चपना-दड़ौरी के पास फेक दिया था।