बारिश में जर्जर मकान के वारजे की चीप शहर के प्रमुख मार्ग में गिरी, गनीमत बड़ा हादसा टला

Scn news india

नवनीत गुप्ता 

कटनी। विगत रात्रि बारिश मे तिलक राष्ट्रीय स्कूल के पास पुराने जर्जर मकान के बाजे की चीप गिर गई। जो प्रमुख मार्ग में गिरी, गनीमत यह रही कि बारिश के चलते सड़क पर आवाजाही कम थी। अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। क्योंकि इस मार्ग पर अवैधानिक ट्रांसपोर्ट नगर, प्रतिष्ठित कॉलोनी, मार्केट, शहर का प्रमुख मार्ग होने के बावजूद कदम कदम पर बड़े-बड़े गड्ढे हैं कई बार नगर निगम प्रशासन को जगाने के लिए जन सेवी संस्थाओं विरोध प्रदर्शन किया जिसमें बेशर्म के पेड़ लगाकर एवं अन्य तरीके अपनाकर विरोध प्रदर्शन किया।अखिल भारतीय वैश्य महापरिषद व जनलोक मोर्चा
के पादधिकारी अनिरुध्द बजाज,राज किशोर यादव,एडवोकेट पन्ना लाल त्रिपाठी,अधिवक्ता सनत परोहा,एडवोकेट अंजुला सरावगी बजाज(जिला कार्यकारिणी सदस्य जिला अधिवक्ता संघ कटनी), प्रेम लाल रजक,वैध सुरेंद्र विश्वकर्मा, संजय गुप्ता, श्याम तिवारी, एडवोकेट अरविंद पांडेय, अंतु पांडेय, एडवोकेट राजेन्द्र विश्वकर्मा, आदि समाज सेवियो ने आयुक्त नगर निगम व एसडीएम कटनी से तत्काल प्रभाव मांग की है कि जिले भर में जर्जर भवन होटल, धरमशाला व दुकाने तत्काल प्रभाव से गिरवाई जाएं जो भी इनका मालिक सरकारी आदेश का पालन नही करता हो तो उसके ऊपर नियमानुसार शासकीय कार्यवाही होने वाली किसी बड़ी दुर्घटनाओ से बचाया जा सके। इसी तरह जनाक्रोश के उपरांत जब कर्मचारियों के कानों पर जूं रेंगी तो लोगों का आक्रोश शांत करने के लिए गिट्टी का बुरा डलवा दिया गया जो कि तेज बारिश में बहकर नाली एवं नाले में जाकर अन्य कचड़े के साथ पानी को जाम कर जग्गनाथ चौक ढलान से तिलक राष्ट्रीय स्कूल तक तालाब बना रहा है, और अब वही गड्ढे भयावह रूप ले रहे हैं यहां से निकलने वाले प्रत्येक व्यक्ति का समय, पैसा जाम में बर्बाद हो रहा है ना तो नगर निगम जर्जर मकानों को गिरवा पा रही है और ना ही इन गड्ढों एवं जाम से आमजन को निजात दिला पा रही है ।शासन-प्रशासन लाव लश्कर के साथ निरीक्षण तो करता है पर आज तक किसी भी प्रकार से समस्या का हल नहीं निकाल पा रहा है अब तो स्थानीय लोगों विचार ग्रुपों मैं आ रहा है क्यों ना जब तक इस नासूर बनी समस्या का निराकरण हो जाय तब तक समस्त टैक्स ना दिए जाएं एवं भारी जन समुदाय के साथ विरोध प्रदर्शन पुनः प्रारंभ किए जाएं।