प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को धमकाना बर्दाश्त नही किया जायेंगा- पांसे

Scn news india

दिलीप पाल 
मुलताई। वर्तमान भाजपा सरकार ने प्रजातांत्रिक मूल्यों की सारी मर्यादाएॅं तोड़ दी है। सत्ता में बने रहने के लिए वह किसी भी हद तक जा सकती है। अन्य राजनैतिक दलों के जन प्रतिनिधियों को लोभ-लालच डरा धमकाकर अपने दल में मिलाना विरोधी नेताओं का अपहरण कर उन्हें चुनावी फार्म न जमा करने देना अनैतिक तरीके से सत्ता हासिल करना, विरोधी नेताओं की जासूसी करवाना, उनके यहां आयकर एवं सी.बी.आई. से छापे डलवाकर झूठे केसों में फसवाना जिससे कोई भाजपा सरकार के खिलाफ न बोले उनके भ्रष्टाचार उजागर न करें, उनकी तानाशाही नीति का विरोध न करें। इसके बावजूद भी जब आम जनता, जुझारू जनप्रतिनिधिगण एवं पत्रकार जगत के लोग नहीं डरे तो उनके यहां छापा डलवाना शुरू कर दिया। इसी कड़ी में आज दैनिक भास्कर समाचार पत्र के संचालकों के यहां छापा मारकार उन्हें डराने का प्रयास किया जा रहा है। प्रजातंत्र के इस चौथे स्तंभ को धमकाना किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जायेगा। उक्ताशय के विचार पूर्व मंत्री एवं विधायक सुखदेव पांसे ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से व्यक्त किये।
श्री पांसे ने बताया कि दैनिक भास्कर सहित अन्य समाचार पत्रों ने कोरोना से हुई मौतों का आकड़ा, शमशान में जलती चिताओं की तस्वीर, गंगा किनारे गाड़े गये शवों की तस्वीर, भाजपा सरकार का फेलुवर जासूसी कांड की रिपोर्ट सहित कई आलेख लिखे थे। जनता के समक्ष समाचार पत्रों द्वारा निष्पक्ष लेख लिखने से भाजपा सरकार तिलमिला गई। इसीलिए शायद वह समाचार पत्रों के संचालकों पर छापेमार कर उन्हें डराना चाह रही है जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही किया जायेगा। हर प्रजातंत्र का रक्षक व्यक्ति प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ के साथ खड़ा है तथा वह सरकार की इस छापामार कार्यवाही का कड़ा विरोध करता है।