सिवनी से किसानों का जत्था सिंधु वार्डर के लिए रवाना, 24 जुलाई के संसद मार्च के प्रदर्शन में होगा शामिल

Scn news india

मनोहर

  • सिवनी से किसानों का जत्था सिंधु वार्डर के लिए रवाना
  • 24 जुलाई के संसद मार्च के प्रदर्शन में होगा शामिल
  • किसानों का संसद मार्च आज से डॉ सुनीलम शामिल

सिवनी/ 26 जुलाई को कोरोना महामारी का फायदा उठाकर केंद्र सरकार द्वारा पूँजीपतियों ,उधोगपतियों, कार्पोरेट के हित मे लाये गए तीन असंसदीय असंवैधानिक तीन कृषि काले कानून को निरस्त किये जाने ,न्यूनतम समर्थन मूल्य गैरंटी कानून बनाये जाने व बिजली संशोधन बिल को वापस लेने की माँग को लेकर 550 से अधिक किसान संगठनों का सँयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले चल रहे चरणबद्ध देशव्यापी किसान जनाआंदोलन के 8 माह पूरे हो जाएंगे।
किसानों के उक्त जनआंदोलन के समर्थन में सिवनी में भी निरन्तर 105 दिन निरन्तर आंदोलन चला ।जिसे कोविड के बढ़ते प्रकोप के चलते स्थगित किया गया है। सँयुक्त किसान मोर्चा ने संसद सत्र के दौरान नागरिक लोकतांत्रिक अधिकारों का उपयोग करते हुए संसद भवन के समक्ष देश के अलग अलग हिस्सों सेपहुँच रहे 200 धरती पुत्र किसान 22 जुलाई से विरोध प्रदर्शन करेंगे।पहले जत्थे में आज समाजवादी किसान नेता पूर्व विधायक डॉ सुनीलम शामिल हुए। “मध्यप्रदेश के सिवनी जिले का एक जत्था आज दिल्ली पहुँच रहा है। जिसके पाँच सदस्यों किसान संघर्ष समिति के जिला अध्यक्ष रामकुमार सनोडिया,अधिवक्ता अहमद सईद कुरैशी ,प्रदीप बघेल,अंगद सिंह बघेल ,रमेश बघेल को सँयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 24 जुलाई के संसद मार्ग प्रदर्शन हेतु पास जारी कर दिए गए है।” बाकी के सदस्य सिंधु वार्डर में चल रहे आंदोलन में शिरकत करेंगे। वहीं दूसरा जत्था के सदस्य 31 जुलाई को राजेन्द्र जयसवाल के नेतृत्व में दिल्ली पहुँचेगा व शामिल होगा।


26 जुलाई को अंबेडकर चौक बाबा साहब प्रतिमा के समक्ष 1 दिवसीय धरना प्रदर्शन के बाद जिला कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन का कार्यक्रम सुनिश्चित है। किसानों को केंद्र की मोदी सरकार ओर भाजपाई बुद्ध समझ रहे है जबकि आज इस आंदोलन की आग से समूचा देश का किसान जाग गया है।ओर लाये गए तीन कृषि बिल को गले का फंदा चीख़ चीख कर बता रहा ।कड़कडाती ठंड बेशुमार गर्मी और अब बरसात में लाखों की संख्या में अन्नदाता देश की राजधानी से लगी वार्डर में आंदोलित है । मोदी सरकार ने देश की जनता को आर्थिक महाशक्ति बनाने किसानों की आय दुगुनी करने स्वामी नाथन आयोग की सिफारिश अनुसार सी टू प्लस फिफ्टी उपज के दाम देने का वादा किया था ।

मोदी सरकार संसद में लोकलुभावन झूठे आंकड़े पेश कर देश लोकतंत्र की गरिमा को चोट पहुँचाने का काम कर रहीं है संसद में ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई जैसे झूठ निर्लज्जता से बोल रही।पेट्रोल पर 22 रुपये टैक्स की जगह 52 रुपये वसूल 3 लाख करोड़ का राजस्व वसूल ने के बाबजूद आये दिन कर्ज ले रही सरकारी संस्थानों को पूँजीपति उधोगपति कार्पोरेट मित्रों को बेच रही।

शिक्षा स्वास्थ्य जैसी मूलभूत नागरिकजनों की आवश्कता उपलब्ध कराने में विफल हो चुकी हैं।सरकारी की नीतियों से महँगाई बेलगाम बढ़ रही। भ्रस्टाचार के मामलों में चुप्पी साधे हुए है लोगों के निजता के मौलिक अधिकारों पर हमला करके जासूसी कर राष्ट्र सुरक्षा की आड़ में अपने कुकृत्यों की सुरक्षा करना चाहती है। किसान मोर्चा के सदस्यों ने भर्त्सना की है।सँयुक्त किसान मोर्चा की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में राजेश पटेल ने कहॉ सुप्रीम कोर्ट के जज,पत्रकार, चुनाव आयुक्त की जासूसी निजी जीवन मे झाँकने से सरकार बाज आये।