11  लाशें निकालने के बाद नींद से जागा प्रशासन ,कुंए पर हुए हादसे के बाद 2 और हेण्डपम्प खनन तत्काल प्रारम्भ

Scn news india

मनोहर

विदिशा -गंजबासौदा मौत के कुएं  से  अब कंही प्रशासन की कुम्भकर्णीय नींद टूटी है। कलेक्टर विदिशा डॉ. पंकज जैन ने बासौदा के लाल पठार में कुंए पर हुए हादसे के बाद 2 और हेण्डपम्प खनन तत्काल प्रारम्भ कराया है, हालांकि इस बसाहट में पूर्व से आधा दर्जन हेण्डपम्प संचालित है।
कलेक्टर डॉ. जैन ने क्षेत्र में शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए शीघ्र ही निर्धारित स्थलों पर दो हेण्ड पंप खनन शुरू करवाया है। इसके अलावा आवागमन प्रभावित ना हो इसके लिए ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से विकास कार्य शुरू कराएं जा रहे है ताकि आवश्यक बुनियादी सुविधाएं की पूर्ति सुनिश्चित हो सकें।

 पेयजल को लेकर चीफ इंजीनियर का वक्तव्य

इस बीच लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख अभियंता ने बताया कि विदिशा जिले के बासौदा विकासखण्ड की ग्राम पंचायत महागौर की बसाहट लाल पठार में पेयजल व्यवस्था के पुख्ता प्रबंध सम्बन्धी जानकारी दी है।
प्रमुख अभियंता ने बताया कि बासौदा विकासखण्ड की ग्राम पंचायत महागौर की वर्ष 2011 की जनसंख्या 1556 है ग्राम पंचायत महागौर, की मुख्य बसाहट महागौर में नलकूप स्त्रोत आधारित योजना स्थापित होकर आंशिक रूप से चालू है। ग्राम महागौर मुख्यतः तीन बसाहटो क्रमशः मुख्य ग्राम महागौर, चक एवं लाल पठार क्षेत्र जिनकी वर्तमान जनसंख्या क्रमशः 500, 200 एवं 1150 है।
मुख्य बस्ती महागौर, वर्तमान जनसंख्या 500, में स्थापित हेण्डपंपो की संख्या सात है। जिसमें से पांच हैण्डपंप चालू एवं दो हैण्ड पंप नलकूपो की जल आवक क्षमता अस्थाई रूप से कम हो जाने के कारण बंद है। वर्तमान जनसंख्या 200 में दो हेण्ड पंप स्थापित एवं चालू है। लाल पठार क्षेत्र वर्तमान जनसंख्या 1150, में कुल पांच हेण्डपंप स्थापित है, जिसमें से दो हैण्ड पंप चालू है एवं दो हैण्डपंपो के नलकूपो पर सिंगलफेस मोटर पंप स्थापित कर जल प्रदाय किया जा रहा है एवं एक हैण्ड पंप नलकूप की जल आवक क्षमता कम हो जाने के कारण बंद है।
लाल पठार क्षेत्र में ही ग्राम स्वरूपनगर की लगभग 4500 की आबादी निवास करती है, लाल पठार क्षेत्र के स्वरूपनगर के रहवासियों के लिए कुल 17 हैण्ड पंप स्थापित है। जिनमें से सात हैण्ड पंप के रूप में चालू है एवं छह हैण्डपंपो के नलकूपो पर सिंगलफेस मोटर पंप स्थापित होकर चालू है एवं चार हैण्ड पंप के नलकूपो की जल आवक क्षमता अस्थाई रूप से समाप्त हो जाने के कारण बंद है। लाल पठार क्षेत्र में जहां स्वरूपनगर की आबादी निवास करती है उस क्षेत्र में नलकूप स्त्रोत आधारित नलजल प्रदाय योजना संचालित है जो कि वर्तमान में आंशिक रूप से चालू है।
ग्राम महागौर के लाल पठार क्षेत्र में जहां कुंआ स्थापित था, उसके आस-पास 25 से 30 घर है। इन घरो से लगभग 150 मीटर दूर एक शासकीय हैण्डपंप स्थापित है। जिसमें सिंगल फेस मोटर पंप स्थापित कर जल प्रदाय की व्यवस्था उपलब्ध है। इसके अलावा जिस कुंए के पास दुर्घटना घटित हुई है उससे पचास तथा लाल पठार गांव से डेढ सौ मीटर पर नवीन हैण्डपंप खनन कार्य किया जा रहा है।