सूफी की सुल्ताना रेखा भारद्वाज ने ओशो महोत्सव में मचाया धमाल

Scn news india

मनोहर

जबलपुर -गुलाबी परिधान में सूफी की सुल्ताना, हिंदी सिनेमा की जानी-मानी पार्श्वगायिका रेखा भारद्वाज ने गुरुवार की शाम ओशो प्रेमियों के बीच धमाल मचाकर सबका दिल जीत लिया। छाप तिलक सब छीना, तेरे इश्क में, तेरी रजा मेरी रजा सहित एक से बढ़कर एक सूफी गीतों पर जमकर तालियां बजीं।

कलेक्टर व स्वामी मुकंददास रहे मौजूद                                  

इस दौरान कलेक्टर भरत यादव, गुप्तेश्वर महादेव मंदिर के स्वामी मुकंद दास महाराज सहित अन्य मौजूद रहे। ओशो अनहद कम्यून, भोपाल की माँ प्रेम पूर्णिमा ने कलेक्टर व रेखा भारद्वाज का स्वागत किया।

सुभाष घई ने जमाया रंग :               

ओशो महोत्सव के प्रथम सत्र में ध्यान क्या और क्यों विषय पर बोलते हुए ओशो व उनके मूल संदेश ध्यान को लेकर अपनी सोच-समझ का इजहार किया तीसरे सत्र में ओशो फिल्म फेस्टिवल के जरिए उन्होंने पर्दे पर ओशो की विभिन्न् भाव-भंगिमाओं की अनदेखी फिल्मों के हिन्दी अंग्रेजी वीडियो की प्रस्तुति और ओशो मेडिटेशन रिजॉर्ट, पुणे की झलकियां दिखाकर ओशो प्रेमियों को आनंद में डुबो दिया। ओशो को लेकर बनने जा रही फिल्म के सिलसिले में इशारे भी किए, जिन्हें सुनकर समूचा तरंग खुशी के रंग में रंग गया।

ध्यान से हुआ आगाज़

गुरुवार को सुबह 6.30 बजे से 7.30 बजे तक का समय ओशो संन्यास अमृतधाम के स्वामी अनादि अनंत के सानिध्य में सक्रिय ध्यान का रहा। ओशो के सबसे मूलभूत डायनामिक मेडिटेशन के विभिन्न् चरणों में डूबते ओशो संन्यासी गजब का समां बांध रहे थे। मैरून रोबधारियां का सागर सा लहराने लगा। आनंद की हिलोर में सब बह गए। अंतिम चरण में नृत्य की धूम मची और फिर सब शिथिल होकर आराम-मुद्रा में चले गए।
ओशो व्याख्यान की कड़ी में ध्यान क्या और क्यों विषय पर ओशो इंटरनेशनल कम्यून की मां अमृत साधना ने जैसे ही अपने स्वर छेड़े सुनने वाले बस सुनते ही रह गए। ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि वाणी एक ऐसी साधिका की थी, जो ओशो के जीवंत संपर्क में रह चुकने के गौरव से मंडित हैं। ओशो से संन्यस्त होने का सौभाग्य अर्जित करने के साथ ही अनवरत ओशो के पूना धाम के संचालन की महती जिम्मेदारी भी निभा रही हैं। उन्होंने ओशो प्रणीत ध्यानों की विविधिवता मनुष्य की विविधता के अनुरूप होने का मनोवैज्ञानिक तथ्य रेखांकित किया।
अशोक चतुर्वेदी, पूर्व सचिव विधानसभा ने भी ””””””””ध्यान क्या और क्यों विषय पर सारगर्भित संभाषण के जरिए ओशो प्रेमियों की तालियों का प्रसाद अर्जित किया। हाई हिंदी ग्रंथ अकादमी के पूर्व संचालक नूतन कॉलेज के प्रोफेसर सुरेंन्द्र विहारी गोस्वामी, हाई कोर्ट के अधिवक्ता नरिन्दर पाल सिंह रूपराह व कपिल तिवारी ने भी ओशो को लेकर यादगार बातें कहीं। सांप्रदायिकता से ऊपर उठकर जीने पर बल दिया। मंच संचालन डॉ.प्रशांत कौरव, डॉ.रणवीर कौर व अमित परनामी ने किया।
मैं धर्म सिखाता हूं, धार्मिकता नहीं : ओशो के संदेश ””””””””मैं धर्म सिखाता हूं, धार्मिकता नहीं को लेकर ओशो अनहद कम्यून, भोपाल की मां प्रेम पूर्णिमा ने भूमिका बांधी, जिसके बाद प्रख्यात साहित्यकार-कथाकार कमलेश पांडे ने ऐसा व्याख्यान दिया, जिसे सुनकर सुनने वाले बस सुनते रह गए। उन्होंने अपने संस्मरणों के जरिए ओशो-दर्शन के प्रति अपनी श्रद्धा निवेदित की। साफ किया कि जो कुछ नहीं जानता, दरअसल उसके ही कुछ जानने की संभावना रहती है। स्विट्जरलैंड से ओशो महोत्सव में शामिल होने आए स्वामी श्रीला प्रेम पारस ने सुर खुमारी से संगीत संध्या सजाई। 6 से 7 बजे तक उनके सुरों ने समां बांधा। वे ध्यान की अतल गहराई में डूबकर संगीत की साधना करने वाले अनूठे ओशो संन्यासी हैं। अपनी अनुभूति को वाद्यों के जरिए अभिव्यक्त करने वाले स्वामी श्रीला प्रेम पारस ने एक के बाद एक ऐसी प्रस्तुतियां दीं कि हर सुनने वाला भाव-विभोर हो गया। पिछले दिनों नर्मदा किनारे ओशो फेस्टीवल के जरिए इस राजकीय ओशो महोत्सव की नींव रखने वाले स्वामी श्रील प्रेम पारस के प्रति प्रत्येक संजीदा ओशो प्रेमी ने अहोभाव व्यक्त किया। स्वामी श्रील प्रेम पारस धर्मपत्नी और पुत्र-पुत्री भी मैरून रोब में सुशोभित हो रहे थे। पूरा परिवार ओशोमय होकर ओशो महोत्सव को सफल बनाने में अपनी आहुति देता नजर आया।
रजनीश राजा चन्द्रमोहन शीर्षक नाटक का सफल मंचन : शाम 5 बजते ही रंग संस्था ””””””””विमर्श की नाट्य प्रस्तुति ””””””””रजनीश राजा चन्द्रमोहन का मंचन शुरू हो गया। स्वामी देव सिद्धार्थ रचित इस नाटक का निर्देशन समर सेन गुप्ता ने किया। विकी तिवारी, आदित्य गुप्ता, नपुल और दीपक गुप्ता ने ओशो के जीवन के विभिन्न् चरणों से संबंधित उनके पात्र बड़ी खूबसूरती से अभिनीत किए। नृत्य और ध्यान के साथ जीवन और मृत्यु, दोनों का उत्सव व आनंद मनाने के दर्शन को समाहित नाटक खूब सराहा गया।

ओशो महोत्सव में आज

ओशो महोत्सव के समापन दिवस पर 13 दिसंबर के कार्यक्रम की शुरूआत नो डायमेंशन ध्यान से होगी जो मां प्रेम गतिता ओशो अनहद कम्यून भोपाल के मार्गदर्शन में होगा।  इसके बाद व्याख्यान के क्रम में श्री शिवकुमार तिवारी, लेखक श्री मनोज श्रीवास्तव एवं श्री मुकेश नायक राज्यसभा सांसद अपना व्याख्यान शिक्षा का स्वरूप विषय पर देंगे। राजनीति ओशो की नजर से विषय पर श्री कमल दीक्षित वरिष्ठ पत्रकार श्री सुरेंद्र बिहारी गोस्वामी प्रोफेसर नूतन कॉलेज भोपाल, श्री अशोक चतुर्वेदी एवं राज्यसभा सदस्य श्री विवेक तन्खा अपनी बात रखेंगे। इसके उपरांत ओशो साहित्य की जानकारी मां अमृत साधना ओशो इंटरनेशनल फाउंडेशन पुणे द्वारा दी जाएगी। इसी क्रम में सत्य की प्यास मन का दर्पण कोर्स ऑफ मैडिटेशन आदि पुस्तकों का विमोचन भी किया जाएगा।
इस तीन दिवसीय आयोजन के समापन सत्र में श्री मनोज मिश्रा का सूफी डांस एवं नीलांगी कलन्तरे का नृत्य होगा। इस अवसर पर ओशो की पुस्तकों सत्य की प्यास, मन का दर्पण एवं कोर्स ऑफ मेडिटेशन के नवीन संस्करणों का विमोचन भी होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All rights reserved by "scn news india" copyright' -2007 -2019 - (Registerd-MP08D0011464/63122/2019/WEB)  Toll free No -07097298142
error: Content is protected !!