आरटीआई एक्टिविस्ट  की शिकायत पर व्ही.एन.एस. कॉलेज मुलताई को नही मिली सम्बद्धता

Scn news india

रामकिशोर पवार 
बैतूल, -पिछले दिनो मुलताई स्थित व्ही.एन.एस. कॉलेज के फर्जी तरीके से चलाने के विषय मे हुई शिकायतो की जॉच हुई। जॉच में शिकायत सही पाई गई जॉच रिपोर्ट के आधार पर छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय द्वारा व्ही.एन.एस. कॉलेज मुलताई को सत्र 2021-22 की सम्बद्धता नही दी गई जिसके कारण इस वर्ष विद्यालय छात्रो को प्रवेश नहीं दे सकेगा। उल्लेखनीय है कि महाविद्यालय में प्रवेश हतू हेतु ऑनलाईन पोर्टल पर से व्ही.एन.एस. कॉलेज का नाम हटा दिया गया है। उक्त जानकारी छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री उल्लाहास सालसेकर ने शिकायतकर्ता आी.टी.आई. एक्टीवीस्ट श्री रामकिशोर पवार को देते हुए बताया की व्ही.एन.एस. कॉलेज मुलताई सत्र 2021-22 से किसी भी कक्षा मे प्रवेश नही दे पायेगा और द्वितीय, तृतीय वर्ष के विद्यार्थीयो को भी अन्य महाविद्यालयों मे अध्ययन करना पड़ेगा क्योकि उक्त महाविद्यालय को सम्बद्धता सूची से बाहर कर दिया गया है।
उल्लेखनीय है कि कुछ महा पूर्व आर.टी.आई. एक्टीवीस्ट श्री रामकिशोर पवार ने आयुक्त उच्च शिक्षा विभाग म.प्र. शासन एवं कुलसचिव छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय को दस्तावेजी शिकायत प्रस्तुत करते हुये जानकारी दी थी की किस तरह से मुलताई तहसील मुख्यालय पर नियमो को एवं शासन की गाइडलाईन को ताक मे रख कर व्ही.एन.एस. कॉलेज संचालित किया जा रहा है। फर्जी तरीके से कॉलेज संचालन की शिकायत को उच्च शिक्षा विभाग द्वारा दबाने की कोशिस की जा रही थी जिसको लेकर शिकायतकर्ता ने मुखर होकर आयुक्त उच्च शिक्षा विभाग से चर्चा की इसके पश्चात इसकी जॉच एस.डी.एम. मुलताई द्वारा की गई। जॉच मे शिकायत सही पाई गई, एस.डी.एम. मुलताई से हुई दूरभाष पर चर्चा अनुसार फर्जी नव विद्या निकेतन संस्थान समिति भोपाल को 15 दिन का समय दिया गया जो आज समाप्त हो गया। ऐसे में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा अब उक्त फर्जी महाविद्यालय संचालन समिति के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही किया जाना विद्यार्थियो के हित मे होगा। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय के समान कड़ी कार्यवाही नही की जाती है तथा विद्यार्थियो के भविष्य के साथ खिलवाड़ होता है तो इसके लिये आयुक्त, उच्च शिक्षा विभाग जिम्मेदान होंगे।