जिला सतर्कता और निगरानी समिति की बैठक संपन्न

Scn news india

मनोहर

भोपाल-जिला पंचायत सभाकक्ष में सम्पन्न जिला सतर्कता और निगरानी समिति की बैठक में सांसद सुश्री प्रज्ञा ठाकुर ने कहा है कि जिले में सभी विकास कार्यों की लगातार समीक्षा की जानी चाहिए विशेषकर आम जनता से जुड़े काम समय पर पूरा करने के प्रयास हो जिससे शासन पर अतिरिक्त वित्तीय भार नही आए। केंद्र सरकार के वित्तीय पोषण से संचालित और निर्मित होने वाली संरचनाओं पर विशेष रूप से निगाह रखी जाए।
बैठक में संतोष व्यक्त किया गया कि वर्तमान में  कोरोना संक्रमण की दर लगातार कम हुई है जिससे लोगों में विश्वास जागा है इसी विश्वास के साथ लोगों को सावधानी के साथ रहने की आदत डालना होगी इसके लिए व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए।  कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए सभी विभाग सतर्कता के साथ काम करें। उसके साथ ही सभी आवश्यक तैयारियां पूरी की  जाएं।
बैठक में विधायक श्री पीसी शर्मा अन्य विधायक प्रतिनिधि, कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया, नगर निगम आयुक्त श्री कोलसानी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नागर, जिला पंचायत सीईओ श्री विकास मिश्रा के साथ अन्य विभाग के अधिकारी भी उपस्थित रहे।
बैठक में सांसद साध्वी सुश्री प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने में बेहतर प्रयास हुए हैं इसके लिए जिले के प्रशासन को साधुवाद दिया जाना चाहिए।
बैठक में स्मार्ट सिटी द्वारा किए गए कामों की समीक्षा की गई।इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकार द्वारा दिए जाने वाले निशुल्क राशन वितरण की समीक्षा भी की गई।  जिसमें अस्थाई पर्ची और 24 श्रेणी में आने वाले परिवारों को निशुल्क पर्ची दिए जाने के संबंध में भी चर्चा की गई। सांसद साध्वी ठाकुर ने कहा कि राशन वितरण प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए लोगों में जागरूकता अभियान चलाया जाए और सभी दुकानों पर इसके संबंध में जानकारी के पोस्टर लगाये जाए।भोपाल में अतिक्रमण को रोकने के लिए लगातार राजस्व और ग्रामीण क्षेत्रों में सरपंच लगातार निरीक्षण करते रहे। कहीं भी शासकीय भूमि पर अतिक्रमण नहीं होने दिया जाए।

सांसद ने कहा कि भोपाल की निचली बस्तियों और  जल भराव वाले क्षेत्रों का लगातार सर्वे किया जाए जहां पर बरसात का पानी भर रहा है  उसमे सुधार किया जाए। नदी,नालों और नालियों की लगातार साफ सफाई हो,  रोड किनारे और आवासीय क्षेत्रों में कमजोर पेड़ों को चिन्हित किया जाए इनको दूसरी जगह शिफ्ट करने या फिर हटाने की व्यवस्था भी की जाए।
जिले की बिजली व्यवस्था की समीक्षा भी हुई जिसमें बिजली बिलों की  शिकायतों को तुरंत दूर करने और बढ़े हुए बिलों का समायोजन करने के निर्देश दिए गए।  इसके साथ ही यदि कही बिलों की राशि में ज्यादा  अंतर आए हैं तो उनको भी तुरंत समायोजित किया जाये। बिलों को  किस्तों में लिए जाने के संबंध में भी  शासन से  पत्राचार किया जाए। हथाई खेड़ा  डेम क्षेत्र में अतिरिक्त भराव की स्थिति में  पानी से किसानों की फसलें खराब हो जाती हैं इसके लिए सर्वे कराने के निर्देश दिए गए हैं।
बैठक में कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने बताया कि उपरोक्त सभी बिंदुओं पर अगली बैठक के पूर्व कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी और सभी संबंधित विभागों को उपरोक्त सभी चर्चारत बिंदुओ पर कार्रवाई के निर्देश दिए है।