ताप्ती जन्मोत्सव पर सूरत से आई 108 मीटर लम्बी चुनरी,दिव्य दृष्टि प्राप्त ब्रहज्ञानी सन्तो द्वारा माँ ताप्ती का वैदिक का पूजन  

Scn news india

रामकिशोर पवार 
बैतूल, आषाढ़ शुक्ल सप्तमी को शिवधाम बारहलिंग तपेश्वर ज्योतिर्लिंग में माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति मध्यप्रदेश एवं धर्म प्रचार.प्रसार मंच के संयुक्त आयोजन में ग्राम ठेसका के समीप बारहलिंग ताप्ती तट मे विश्व प्रसिद्ध माँ बगलामुखी साधिका एवं अन्तराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त ज्योतिषाचार्या परम पूजनीय तपस्वी संत गुरू माँ देवी ज्ञानेश्वरी गोस्वामी एवं ब्रम्हज्ञानी संत सदगुरूदेव डॉ. सत्यनारायण गिरी मुनि महाराज के हाथों पुण्य सलिला माँ सूर्य छाया पुत्री ताप्ती जी का वैदिक मंत्रो द्वारा पूजन आयोजन के साथ ही दुग्धाभिषेक का भक्तिमय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम में गुजरात के सूरत जिले से श्री जीण माता सेवा समिति द्वारा प्रतिवर्षानुसार भेंट की जाने वाली 108 मीटर लंबी चुनरी एवं सुहाग सामग्री माँ ताप्ती को समर्पण की जाएगी। इस अवसर पर सुहागन महिलाओ को सुहाग सामग्री तथा कुंवारी कन्याओ को चुनरी भेट की जाएगी।
ताप्ती महीमा का बखान
स्कंद पुराण, महाभारत, सूर्यपुराण, वायुपुराण सहित अनेक हिंदू धर्म शास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि पुण्य सलिला माँ सूर्य छाया पुत्री ताप्ती जी की उत्पत्ति भगवान सूर्यनारायण जी से हुई थी। ताप्ती नदी के तटों पर अनेक ऋषिमुनियों, साधु संतो ने तप किया और आज के समय में भी कई साधु महात्मा तप करते देखे जा सकते हैं। प्रतिवर्ष अषाढ़ शुक्ल सप्तमी को माँ ताप्ती जन्मोत्सव आयोजन करने वाली मां सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति समिति मध्यप्रदेश के सदस्यों द्वारा सर्व सम्मति से निर्णय लेते हुए जन्मोत्सव पर कोरोना संक्रमण दूर करने के लिए अखंड ब्रम्ह ध्यानालिन समाधि लगाने वाले ब्रम्हज्ञानी,आत्मज्ञानी, त्रिकालदर्शी, सर्वज्ञ मुनि महाराज और एवं परम पूजनीय तपस्वी संत माँ बगलामुखी साधिका अन्तर्राष्ट्रीय गोल्ड मेडलिस्ट ज्योतिषाचार्या गुरू माँ देवी ज्ञानेश्वरी गोस्वामी जी द्वारा मां ताप्ती जी से प्रार्थना करने का भी निर्णय लिया गया। इस बार माँ ताप्ती जन्मोत्सव पर शासन की गाइड लाइन का पालन करते हुए इस वर्ष भीड़ वाले आयोजन नहीं करने का निर्णय माँ सूर्यपुत्री ताप्ती जागृति समिति मध्यप्रदेश द्वारा लिया गया हैं।
इस बार विशेष आतिथी रहेगी गुरू माँ
बैतूल जिले जिले मे पहली बार सूर्यपुत्री माँ ताप्ती जन्मोत्सव पर अन्तर्राष्ट्रीय गोल्ड मेडलिस्ट ज्योतिषाचार्या गुरू माँ देवी ज्ञानेश्वरी गोस्वामी जी का आगमन होने वाला हैं जिनकी जातकों के लिए की गई भविष्यवाणी आज तक विफ ल नही हुई । वही माँ बगलामुखी साधिका गुरू माँ देवी ज्ञानेश्वरी गोस्वामीजी लगभग 25 वर्षो सें माँ बगलामुखी की आराधना कर रही हैं। उक्ताशय की जानकारी देते हुए समिति प्रदेश अध्यक्ष रामकिशोर पंवार ने बताया कि बैतूल जिले में पुण्य सलिला सूर्यपुत्री ताप्ती के 250 किमी के प्रवाह / बहाव क्षेत्र के आसपास के गांवो के लोग अपने – अपने स्तर पर जन्मोत्सव का आयोजन करेगें। श्री पंवार के अनुसार शासकीय अवकाश होने के कारण लोगो से ताप्ती घाटो पर अनावश्क्य भीड़ न बढ़ाने का अपील करते हुए सभी से मास्क का उपयोग, दो गज की दूरी तथा सेनेटराइजर के बार- बार उपयोग की अपील की जा रही है।