विवाह समारोह के दौरान नव दंपति ने की अनोखी पहल, सभी मेहमानों को रिटर्न उपहार में भेंट किये पौधे-

Scn news india

 

रविकांत बिदौल्या 
विधायक ने कहा कि हम जीवित हैं तो उसमें बहुत बड़ा हाथ पर्यावरण का,

हटा। कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी ने नागरिकों को हरियाली सहेजने को विवश कर दिया है,मानव जीवन में आक्‍सीजन की क्‍या आवश्‍यकता है यह कोविड १९ ने सभी को बहुत ही बारीकी से समझा दिया है, इसी उद्देश्य को लेकर पटेरा में शुक्‍ला परिवार में आयोजित विवाह समारोह में इंजीनियर नवदम्‍पति ने अपने विवाह को चिर स्‍मरणीय बनाने के लिए एक अनोखी पहल का शुभारंभ किया जिसमें विवाह समारोह में शामिल होने आए सभी मेहमानों को रिटर्न गिफ्ट स्वरूप वर वधु ने औषधि एवं फलदार पौधे उपहार स्वरूप प्रदान कर स्कूल प्रांगण में पौधरोपण किया।

उल्लेखनीय है कि भोपाल निवासी राजेश शुक्‍ला की पुत्री इंजी. नमिता शुक्ला एवं राजेन्‍द्र दुबे के सुपुत्र इंजी. राजीव दुुुबे के साथ मई माह में होना था, लेकिन कोरोना काल होने के कारण विवाह समारोह को आगे बढा दिया गया, शुक्रवार को 2 तारीख विवाह समारोह में नव दम्‍पति ने सारी वैवाहिक परम्‍पराओं के साथ पर्यावरण के लिए कार्य किया, सुबह सनराइज स्कूल परिसर में पौधे रोपे तो सायंकाल आशीर्वाद समारोह में आये सभी अतिथि एवं रिस्‍तेदारों के लिए एक एक पौधा भेंट किया। इस दौरान विवाह समारोह में शामिल हुए हटा क्षेत्रीय विधायक पीएल तंतुवाय ने कहा कि कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी ने नागरिकों को हरियाली सहेजने को विवश कर दिया है ज्यादा मात्रा में आक्सीजन देने वाले पौधों को रोपने के प्रति दिलचस्पी भी बढी है। पर्यावरण का हमारे जीवन में बहुत महत्व है पर्यावरण केे द्वाराा ही पृथ्वी पर जीवन संभव है यदि आज हम जीवित हैंं तो उसमें बहुत बड़ा हाथ पर्यावरण का है। एक अच्छा और स्वच्छ पर्यावरण हमें बेहतर जीवन जीने में मदद करता है। विधायक ने शुक्ला परिवार की सराहना करतेेे हुए कहा कि यह शुक्ला परिवार द्वारा जो विवाह समारोह में नव दांपत्यय जीवन के पूर्व मेहमानों को पौधे उपहार स्वरूप में प्रदान किए गए यही एक अनुकरणीय पहल है। वही पूर्व विधायक डाँँ विजज सिह राजपूत बर-वधू को आशीर्वाद देते हुए कहा कि पेड़़ पौधों से हमें मिलने वाली प्राणवायु फल औषधियों तथा अन्य लाभकारी चीजों की हमारे जीवन में बहुत महत्वता है आनंद मोहन पटेरिया नेे कहा कि मनुष्य को अपने जीवन का दशांश प्रकृति को देना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार एक मनुष्य का जीवन 100 साल का माना गया इसलिए इसके 10 में अंश के रूप मेंं हमें अपने जीवन काल मैं कम सेे कम 10 वृक्ष लगाना चाहिए ताकि प्रकृति से जो हम ले रहेे हैं कम से कम उस का 10 वा भाग हम जीवन मेंं 10 वृक्ष लगाकर पृथ्वी को वापस कर उसे संतुलित रख सकतेे हैं।
वहीं नव दम्‍पति ने जीवन में सांसो के महत्‍व को बताते हुए कहा कि हमारी वसुंधरा जब हरी भरी रहेगी, तभी मानव को शुद्ध हवा मिल सकती है, इसी उद्देश्‍य से आयोजन में पौधों को भेंट किया गया है। पटेरा में शादी समारोह के दौरान शुक्ला परिवार द्वारा इस प्रकार मेहमानों को पौधे उपहार स्वरूप भेंट किए जाने पर लोगों ने काफी सराहना की।