फिर हटाए गए प्रभारी सीएमएचओ डॉ. मेश्राम! अनेक जांचों को बनाया आधार, कोविड में की गई खरीदी भी बन सकती है भविष्य में सरदर्द!

Scn news india

(अखिलेश दुबे)
सिवनी (साई)। प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. करूणेश सिंह मेश्राम को एक बार फिर पद से हटाकर उनकी मूल पदस्थापना वाले स्थान अर्थात इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में रिक्त पड़े रेडियोलाजिस्ट के पद पर पदस्थ किया गया है।
स्वास्थ्य संचालनालय में पदस्थ अपर संचालक सपना एम. लोवंशी के हस्ताक्षरों से 01 जुलाई को जारी आदेश के तहत जिला चिकित्सालय उमरिया में सर्जरी विशेषज्ञ एवं प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजेश श्रीवास्तव को सिवनी में बतौर प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पदस्थ किया गया है। उधर, मूलतः रेडियोलॉजिस्ट डॉ. के.सी. मेश्राम जो कि प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सिवनी के पद पर पदस्थ हैं, उन्हें जिला चिकित्सालय में रेडियोलॉजिस्ट के रिक्त पद पर पदस्थ किया गया है।
इसके पूर्व 16 सितंबर 2019 को भी प्रभारी सीएमएचओ रहे डॉ. के.सी.मेश्राम को सीएमएचओ के प्रभार से हटाया जाकर उन्हें जिला अस्पताल में बतौर रेडियोलॉजिस्ट पदस्थ किया गया था। उनके स्थान पर मण्डला जिले के सिविल अस्पताल नैनपुर में पदस्थ शल्य क्रिया विशेषज्ञ डॉ.के.आर. शाक्य को सिवनी का नया सीएमएचओ बनाया गया था।
सीएमएचओ कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इसके पहले भी जिला चिकित्सालय सिवनी में जब रेडियोलाजिस्ट के बतौर डॉ. मेश्राम पदस्थ थे उस समय उनके द्वारा न तो एक्सरे न ही सोनोग्राफी ही की जाती थी। सूत्रों की मानें तो जिला चिकित्सालय के रिकार्ड को अगर देख लिया जाए तो दूध का दूध पानी का पानी हो सकता है।
सीएस ने रोका था सीएमएचओ का वेतन!
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को स्वास्थ्य विभाग का मुखिया माना जाता है, पर अगर उनके अधीन काम करने वाले कार्यालय के द्वारा ही उनका वेतन रोक लिया जाए तो क्या कहा जाएगा। जी हां, यह चमत्कार हुआ है सिवनी में। प्रभारी सीएमएचओ डॉ. के.सी. मेश्राम का वेतन उनके अधीन काम करने वाले सिविल सर्जन कार्यालय द्वारा रोका जा चुका है।
सीएमएचओ कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने इस रहस्य पर से पर्दा उठाते हुए समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि डॉ. के.सी. मेश्राम लंबे समय से प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के पद पर पदस्थ हैं। उनकी मूल पदस्थापना पूर्व में प्रभारी सीएमएचओ से हटाकर इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में रेडियोलाजिस्ट के पद पर कर दी गई थी। उसके बाद से डॉ. के.सी. मेश्राम का वेतन जिला अस्पताल से ही निकल रहा है।
3 लाख 65 हजार की वसूली हेतु जारी किया गया था पत्र!
सीएमएचओ कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि पूर्व में डॉ. के.सी. मेश्राम जब प्रभारी सीएमएचओ नरसिंहपुर पदस्थ थे तब उनके द्वारा साधना पटेल पुत्री भरत लाल पटेल को एक लाख, प्रभा यादव पुत्री पूरन लाल यादव को एक लाख एवं संध्या पुत्री गणेशलाल पिपरोलिया को एक लाख 65 हजार इस तरह कुल 03 लाख 65 हजार रूपए के भुगतान की जांच भी की जा रही थी।
निर्धारित मापदण्ड से अधिक किया था व्यय!
सूत्रों ने यह भी बताया कि संचालनालय के द्वारा वर्ष 2018 – 2019 में सफाई, सुरक्षा एवं बायोमेडिकल वेस्ट मदों में असामानुपातिक अत्याधिक आहरण के आरोपों की जांच भी की गई थी। सूत्रों ने बताया कि डॉ. मेश्राम ने सिवनी में बतौर सीएमएचओ रहते हुए साफ सफाई मद के अंतर्गत निर्धारित मापदण्ड से 07 लाख 29 हजार 710 रूपए का व्यय किया गया था।
यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि डॉ.करूणेश सिंह मेश्राम का बतौर सीएमएचओ सिवनी कार्यकाल चर्चाओं और विवादों में रहा है। उनकी ढीली प्रशासनिक पकड़ के चलते सिवनी का स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह पटरी से उतर चुका है।

जल्द करेंगे ज्वाईन : श्रीवास्तव
सिवनी में पदस्थ नए प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजेश श्रीवास्तव ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान बताया कि वे जल्द ही सिवनी पहुंचकर सीएमएचओ का प्रभार ग्रहण करेंगे।
यहां यह उल्लेखनीय होगा कि लगभग दो दशक पहले डॉ. राजेश श्रीवास्तव बतौर सर्जन सिवनी में इंदिरा गांधी जिला चिकित्सालय में काम भी कर चुके हैं।