डॉक्टर्स के लिए जन-जन में “तुम रक्षक काहू को डरना” का भाव विकसित हुआ

Scn news india

मनोहर

भोपाल-मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना के संकट काल में डॉक्टर साथियों द्वारा की गई त्याग, तपस्या, सेवा और समर्पण के परिणामस्वरूप डॉक्टर्स के लिए जन-जन में यह भाव विकसित हुआ कि “तुम रक्षक काहू को डरना”। यह डॉक्टर्स के निरंतर परिश्रम का ही परिणाम था कि कोरोना की विकट परिस्थितियों में डॉक्टर की उपस्थिति से लोग “संकट कटे, हरे सब पीड़ा” का अनुभव करने लगते थे। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण डॉक्टर्स और पेरामेडिकल स्टाफ के प्रयासों के परिणामस्वरूप ही संभव हो पाया। आज डॉक्टर्स डे के अवसर पर प्रदेशवासियों की ओर से मैं डॉक्टर्स का आभार मानता हूँ और उनका अभिन्नदन करता हूँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की संभावना वैज्ञानिकों द्वारा व्यक्त की गयी है। इस लहर का सामना करने, बचाव और रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार पूरी तरह तैयार है। राज्य सरकार इस ओर निरतंर सक्रिय है। डॉक्टर्स को भी तीसरी लहर से प्रदेश को बचाने के लिये सभी उपाय करने है। मुख्यमंत्री श्री चौहान डॉक्टर्स डे पर आयोजित संवाद एवं सम्मान कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।