चोरी की बिजली से हो रहे करोड़ो के पुल निर्माण कार्य, बिजली विभाग ने शिकायत पर कार्यवाही की शुरू

Scn news india

रविकांत बिदौल्या 

हटा/- मड़ियादो के कंचन नाला पर करोड़ो की लागत से पुल निर्माण करने वाली कम्पनी द्वारा बिजली विभाग को हजारों रुपये की चपत देकर फ्री में बिजली उपयोग करने का मामला सामने आया है।
शिकायत मिलने पर जब विजली कर्मचारी निर्माण स्थल पँहुचे तो यंहा मीटर बन्द पड़ा था और खम्बे से डायरेक्ट बिजली लाइन चालू करके अवैध तरीके से बिजली का उपयोग करना पाया, लाइनमैन ने मौके से बन्द पड़े मीटर को जब्त कर इसको लोड जांच हेतु भेजा गया है,बिजली कर्मचारियों की माने तो ठेकेदार जगदीश पाठक छतरपुर द्वारा एक मीटर कनेक्शन लिया गया था लेकिन वह बन्द मिला,,पूरे मामले की जांच के बाद निर्माण एजेंसी पर कार्यवाही की जाएगी

मड़ियादो क्षेत्र में कई जगह पुल निर्माण कर रही छतरपुर की पाठक कन्स्ट्रक्शन कम्पनी द्वारा दर्रा नाले के पास जगदीश पाठक के नाम से एक विजली कनेक्शन लिया था यंहा काम बंद करके निर्माण एजेंसी ने यही मीटर कनेक्शन कंचन नाला ट्रांसफर करा के औपचारिकता पूरी कर दी और साइट पर मीटर की आड़ में डायरेक्ट लाइन से धड़ल्ले से बिजली उपयोग करते रहे, आरोप है कि साइट पर बेल्डिंग मशीन,कटर सहित कई इलेक्ट्रिक उपकरणों का उपयोग हुआ जिससे बिजली विभाग को हजारों रुपये की चपत लगने का अनुमान है।
एक तरफ बिजली विभाग गरीब बर्ग और किसानों के साथ सख्ती से पेश आता वन्ही दूसरी ओर करोड़ो के कार्य करने वाली बड़ी कम्पनियों पर मेहरबानी लोगों को समझ नहीं आ रही,मामला सामने आने के बाद अधिकारी ठेकेदार पर कार्यवाही की बात जरूर कर रहे लेकिन सवाल यह है कि सालों से मुफ्त की विजली उपयोग करने वाली पुल निर्माण एजेंसी के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही कब होगी और डायरेक्ट बिजली के उपयोग का अनुमान कैसे लग पाएगा।
सालों से जगदीश पाठक के नाम से जो मीटर कनेक्शन लिया गया उसका दिसम्बर और फरवरी माह में कुल 2-2 हजार बिल जमा किये गया है।