महाराष्ट्र गुजरात तक जाने वाली दर्जनो बसे बेधड़क हाइवे पर भर रही फर्राटे

Scn news india

नवनीत गुप्ता 

कटनी। बसों में ढोया जा रहा सवारियों को जानवरों की तरह बेजा भाड़ा वसूली और कानून नियम रखें ताक पर अन्य राज्यों में संचालित हो रही बस सेवा

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन में अभी प्रदेश के बाहर बसों के संचालन की अनुमति प्रदान नही हुई है, और कटनी कलेक्टर के गाइड लाइन में भी सिर्फ जिले वार बसों को चलाने की बात कही गई है।

आपको एक चौकाने वाला नजारा देखने को मिलेगा कटनी जिले से होकर महाराष्ट्र गुजरात तक जाने वाली दर्जनो बसे बेधड़क हाइवे पर फर्राटे भरती नजर आ रही है, यही नही कटनी के चाका मोड़ पर शिवम ढाबा जो बस स्टैंड सा प्रतीत होता है जहां से अवैध बसों की बुकिंग जारी है जहां बसों में सवारियों को बैठाया जा रहा है यही नही रीवा से चलकर सूरत पूना नागपुर तक के यात्री बकायदा बस संचालक के बनाये भाड़ा रेट मनमाना वसूली भी करते हुए सुन सकते है आप जो बसों में सवार यात्री अपनी बीती बता रहे है और किस कदर बसों में यात्री भरे है उसे भी देखा जा सकता है।

बात करे संक्रमण से बचाव की जहाँ सरकार अभी संक्रमण को फैलने से रोकने जी जान से जुटी नज़र आ रही है तो वही यहाँ बसों के निजी संचालक बसों में जानवरों की मानिंद इँसानो को एक सीट पर तीन दो सीट पर 6 सवारी बैठा कर महंगा भाड़ा भी वसूल रहे है और कोरोना के नियमो का पालन में न सोशल डिस्टेंस न चेहरो पर मास्क तक नही।

परिवहन विभाग के आला अधिकारी से जब इस सम्बंध में अवगत कराया गया तो खाना पूर्ति कर कार्यवाही करने की बात कही गई।

जिस तरह बसे उत्तरप्रदेस से चलकर मध्यप्रदेश होते हुए गुजरात सूरत व महारास्ट्र के पूना तक के यात्रियों को बसों में भरकर ले जा रहे और ला रहे है हाइवे के सड़को पर फर्राटे भरती दर्जनों बसे किस तरह प्रशासन के नजरो से ओझल हो सकती है यह एक बड़ा सवालिया निशान खड़ा करता है प्रशासन के कार्यशैली पर।

कटनी जिला प्रशासन के यातायात विभाग, परिवहन विभाग और अनेको पुलिस थानों से होकर गुजरने वाली बसों को कोई रोक टोक नही न सरकार के गाइड लाइन का पालन कराने वाला।