शहरी क्षेत्र में लक्ष्य से पिछड़े तो आनन-फानन में खेल मैदान को बनाया टीकाकरण केन्द्र, पुलिस की चैकिंग लगवाकर करवाया वैक्सीनेशन

Scn news india

संवादाता सुनील यादव मुड़वारा कटनी

कटनी। टीकाकरण के महाभियान के पहले दिन शहरी क्षेत्र में बनाए गए टीकाकरण केन्द्रों में लक्ष्य के अनुसार वैक्सीनेशन नहीं हो पाया। लक्ष्य को हासिल करने में पिछड़ने में आनन-फानन में कचहरी के पास स्थित खेल मैदान में टीकाकरण केन्द्र बना दिया गया और खेल मैदान के बाहर ही पुलिस की चैकिंग लगा दी गई। पुलिस कर्मी वाहन चालकों, ऑटो चालकों को रोककर उन्हें टीकाकरण कराने के लिए कह रहे थे। पहले टीकाकरण के लिए करीब पांच बजे का समय निर्धारित किया गया था। शाम को पांच बजे अलग से खेल मैदान में बनाए गए टीकाकरण में 5 बजे से रात 8 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है।

जानकारी के अनुसार जिले में टीकाकरण के महाभियान के लिए जिले में 131 केन्द्र बनाए गए हैं। जिसमें से 71 केन्द्र ग्रामीण क्षेत्रों में और 60 केन्द्र शहरी क्षेत्रों में बनाए गए हैं। इन्हीं 60 केन्द्रों में तीन केन्द्र ऐसे हैं जिन्हें आदर्श केन्द्र के रुप में बनाया गया है। राज्य शासन की ओर से जिले को 15 हजार टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। टीकाकरण सुबह दस बजे से शुरु होकर पांच बजे तक चला। टीकाकरण के आंकड़ों पर जाएं तो शाम पांच बजे तक ग्रामीण क्षेत्र में लक्ष्य के आसपास और शत-प्रतिशत टीकाकरण कराया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण के प्रति उत्साह भी देखा गया। लेकिन शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण के प्रति लोगों में अधिक उत्साह नहीं था, लिहाजा शाम पांच बजे तक लगभग 60 से 65 फीसदी ही टीकाकरण ही हो पाया था। जबकि पूरे जिले के टीकाकरण की बात की जाए तो उसमें 16 हजार से अधिक लोगों ने टीकाकरण कराया है।

अचानक बनाया टीकाकरण केन्द्र
शहरी क्षेत्र में टीकाकरण कम होने के कारण अचानक कचहरी स्थित खेल मैदान में टीकाकरण केन्द्र बनाया गया। तंबू लगाया गया, कुर्सी टेबिल रखी गई। स्वास्थ्य विभाग की टीम भी पहुंच गई। कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, एसपी मयंक अवस्थी, एएसपी संदीप मिश्रा, एसडीएम बलवीर रमन सहित अन्य अधिकारी भी वहां पर पहुंचे। खेल मैदान में टीकाकरण केन्द्र बनाने के लिए खेल मैदान के बाहर जांच के लिए पुलिस बल तैनात कर दिया गया। पुलिस बल वहां निकलने वाले वाहनों को रोक रहे थे, सभी से टीका लगा है कि नहीं पूछा जा रहा था। इस दौरान जिसने टीका नहीं लगवाया था उसे टीका लगवाने के लिए खेल मैदान भेजा जा रहा था।