आम आदमी पार्टी ने समझी आम आदमी की समस्या, बढ़े हुए बिजली बिल वापस लेने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

Scn news india

संवादाता सुनील यादव मुड़वारा कटनी

कटनी – आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने सोमवार को आम आदमी की समस्या को समझते हुए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर बढ़े हुए बिजली बिल वापस लिए जाने और बिजली दर में प्रस्तावित वृद्धि में रोक लगाए जाने की मांग की है।
ज्ञापन में कहा गया है कि मध्य प्रदेश में पहले से ही उपभोक्ताओं को महंगी बिजली की मार ने सताया है, सरकार बिजली कंपनी के साथ सांठ-गांठ करके पहले से ही लोगों को लूट रही है अब जबकि लगभग 15 महीने से लोग दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष कर रहे है,  ऐसे वक्त में बिजली के दामों में 70 प्रतिशत की बेतहाशा वृद्धि कर अमानवीय कृत्य किया जा रहा है।


ज्ञापन में कहा गया है कि दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार बिजली 200 यूनिट तक हर व्यक्ति के लिए मुफ्त दे रही है, 400 यूनिट तक आधे दाम है। जबकि बिजली का उत्पादन दिल्ली में नहीं होता, बल्कि वहां पर जो बिजली लोगों को प्राप्त हो रही है उसमें मध्य प्रदेश से खरीद कर दिया जाती है। फिर भी वहां लोगों को बिजली कम दाम में उपलब्ध कराई जा रही है। मध्यप्रदेश में बिजली का उत्पादन होने के बावजूद प्रदेश के अंदर 200 यूनिट बिजली के लगभग 1500 रुपए और 400 यूनिट के लगभग 3200 रुपए वसूले जा रहे हैं।


आम आदमी पार्टी कई वर्षों से महंगी बिजली के विरोध में काम कर रही है, बार-बार आग्रह भी किया गया कि लोगों को बिजली कम दाम पर उपलब्ध कराई जाए, गरीब जरूरतमंदों को बिजली मुफ्त उपलब्ध कराई जाए, जैसा कि दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार कर रही है।
ज्ञापन में बिजली के दामों को तत्काल प्रभाव से कम किया जाने और प्रदेश के लोगों को महंगी बिजली से राहत देने, बिजली दरों में प्रस्तावित वृद्धि को वापस लेने की मांग आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने ज्ञापन सौंपकर की है। ज्ञापन सौंपने के दौरान आम आदमी पार्टी के जिलाध्यक्ष सुनील मिश्रा, जिला उपाध्यक्ष अफरोज अहमद, गुप्तेश्वर साहू, रंजीत मौर्य पिंटू, सुदामा इडनानी, कृष्ण कुमार कुशवाहा, अभिषेक बजाज, पवन सैनी, आयुष द्विवेदी, नितिन साहू, अनमोल मंगवानी, सद्दू दहिया सहित पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की उपस्थिति रही।