वंचित एवं कमजोर वर्ग के बच्चों को निःशुल्क ऑनलाइन प्रवेश मिलेगा

Scn news india

मनोहर

भोपाल-वंचित एवं कमजोर वर्ग के बच्चों को निःशुल्क ऑनलाईन प्रवेश प्रक्रिया सत्र 2020-21 एवं 2021-22 हेतु लाटरी के माध्यम से संपादित की जाएगी।

प्रवेश की पात्रता में वंचित एवं कमजोर वर्ग के बच्चों में इस बार कोविड-19 से माता-पिता/अभिभावक की 01 मार्च 2021 से 30 जून 2021 तक की अवधि में मृत्यु होने की दशा में आवेदन कर सकेंगे। प्रवेश के लिए वंचित समूह एवं कमजोर वर्ग के आवेदकों द्वारा ऑनलाईन आवेदन पत्र में प्रविष्ट की जाने वाली समस्त जानकारी अपने मूल अभिलेखों से सही-सही प्रविष्ट की जावे। तत्पश्चात पालक द्वारा पोर्टल से आवेदन की पावती तथा सत्यापन प्रपत्र डाउनलोड किया जाएगा।

इसी की दो प्रति में प्रिन्ट निकालकर अपने जन शिक्षा केन्द्र पर सत्यापन अवधि तक आवेदन पत्र में अंकित जानकारी अनुसार मूल दस्तावेज, फोटो, सत्यापन प्रपत्र तथा आवेदन प्राप्ति की आनलाईन पावती एवं आवेदन पत्र में पंजीकृत मोबाईल नं. 1 ओटीपी हेतु मोबाइल लाना अनिवार्य होगा। सत्यापन के उपरान्त सत्यापन की सूचना अभ्यर्थी को एसएमएस से प्राप्त होगी।

सत्र 2021-22 में निःशुल्क प्रवेश हेतु पोर्टल पर ऑनलाईन आवेदन एवं त्रुटि सुधार हेतु समय-सीमा 30 जून 2021 तक होगी तथा दस्तावेजों का सत्यापन 01 जुलाई 2021 तक होगा तथा सत्र 2020-21 में निःशुल्क प्रवेश हेतु पोर्टल पर ऑनलाईन आवेदन एवं त्रुटि सुधार हेतु समय-सीमा 07 जुलाई से 20 जुलाई 2021 तक होगी तथा दस्तावेजों का सत्यापन 8 जुलाई से 21 जुलाई 2021 तक होगा। आवेदक की आयु के संबंध में सत्र 2021-22 हेतु गणना 16 जून 2021 की स्थिति में की जावेगी एवं जिन आवेदकों द्वारा सत्र 2020-21 हेतु आवेदन किए जाएंगे, उनकी आयु की गणना 16 जून 2020 की स्थिति में की जावेगी। यहां स्पष्ट किया जाता है कि सत्र 2020-21 में बच्चों को आवंटित कक्षा ‘‘नोशनल’’ होगी, अर्थात प्रवेशित बच्चा वास्तविक रूप से सत्र 2021-22 में प्रवेश की अगली कक्षा में अध्ययनरत होगा। पूर्व वर्षों में आरटीई के तहत प्रवेश उपरान्त अभ्यर्थी दोबारा आवेदन नहीं कर सकेगा।

निःशुल्क प्रवेश हेतु स्कूलवार तथा कक्षावार आरक्षित सीटों की जानकारी आरटीई पोर्टल ahttp://rteportal.mp.gov.in से प्राप्त की जा सकती है। सत्रवार निःशुल्क प्रवेश हेतु जिला शिक्षा केन्द्र, जनपद शिक्षा केन्द्र एवं जन शिक्षा केन्द्रों में सम्पर्क कर समस्त जानकारी प्राप्त की जा सकती है। आवेदकों की सुविधा हेतु जनपद शिक्षा केन्द्र स्तर पर हेल्प डेस्क का गठन किया गया है।