स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के नाम पर लाखो करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी मूलभूत सुविधाएं आम लोगों तक नही पहुंचती

Scn news india

शारदा श्रीवास्तव 

स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के नाम पर लाखो करोड़ों खर्च किये जाते हैं लेकिन फिर भी मूलभूत सुविधाएं आम लोगों तक नही पहुंच पाती ऐसा ही ताजा मामला सामने आया हैं जो कीं इंसानियत क़ो शर्मसार कर रहा हैं..सुविधाओं के अभाव मे मजबूरी वश परिजनों क़ो शव बाइक मे ले जाना पड़ा..

चेतराम यादव मुगदरा गाँव निवासी क़ो तेज सीने मे दर्द हुआ जिन्हें परिजनों द्वारा पहले प्राइवेट डॉ,की दिखाने ले जाया गया जहाँ चेतराम को चक्कर आया और भी गिर गया जिससे तुरन्त ही नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र बहमनी बंजर लाया गया। लेकिन उनके वहां पहुंचने पर उनकी मौत हो गई..परिजनों क़ा कहना हैं जब उन्हें स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया था तब कोई भी डॉक्टर मौजूद नही था वही परिजनों के सामने शव क़ो ले जाने वाहन कीं समस्या थीं.. उन्होने अस्पताल प्रबंधन से वाहन कीं मांग कीं लेकिन फिर भी उन्हें ना ही कोई एम्बुलेंस मिली और ना ही शव वाहन.. मजबूरी वश उन्हें अपनी बाइक क़ो सहारा बनाया और बाइक मे लदाकर शव क़ो गाँव लाया गया..
गाँव मे इस घटना के बाद काफी रोष देखा जा रहा..
लोगों क़ा कहना हैं कीं जिम्मेदार लोगों पर कार्यवाही कीं जाएं.

जब हमने स्वास्थ्य केन्द्र के bmo से बात कीं तो उनका कहना था कीं बम्हनी बंजर में शव वाहन नही है अम्बुलेन्स के ड्राइवर क़ो वैक्सीन लगा हैं उसे बुखार हैं.. हमने शव के लिऐ प्राइवेट वाहन कीं बात कीं थीं लेकिन पीड़ित परिजन नही माने ओर अपनी बाइक मे शव क़ो गाँव ले गऐ.. तो वही bmo नें शव वाहन ना होने कीं बात स्वीकारी..

वीडियो खबर देखने के लिए – मोबाईल एप डाउनलोड करें – scn news india