आरटीई के के अंतर्गत ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से प्रवेश

Scn news india

अलकेश साहू 
बैतूल-शिक्षा के अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जिले में संचालित अशासकीय शालाओं में नि:शुल्क प्रवेश के लिए इस वर्ष लगभग 4655 आरक्षित सीटों पर पात्र छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से प्रवेश दिए जाएंगे। प्रवेश हेतु आवेदन सत्यापन की प्रक्रिया 01 जुलाई 2021 तक की जाएगी।
आवेदन की प्रक्रिया में इस वर्ष आंशिक परिवर्तन किया गया है जिसके अनुसार आवेदक को आरटीई पोर्टल एमपी ऑनलाइन पर पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। आवेदन करने के उपरांत पोर्टल से आवेदन की पावती एवं सत्यापन प्रपत्र दो प्रति में डाउनलोड कर प्रिंट प्राप्त करेंगे। इस वर्ष आवेदकों की सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखते हुए आवेदनों के परीक्षण अनुसार सत्यापन के लिए प्रत्येक जन शिक्षा केंद्र में सत्यापन केंद्र बनाया गया है। इससे पालकों को अधिक दूरी तय नहीं करना होगी, अपने निवास के निकटवर्ती हाईस्कूल अथवा हायर सेकंडरी विद्यालय में, जो जन शिक्षा केंद्र भी हैं, में जाकर पालक अपने मूल प्रमाण पत्रों का अवलोकन कराते हुए आवेदन में अंकित की गई प्रविष्टियों का सत्यापन करा सकेंगे। सत्यापन के लिए बच्चों को लेकर नहीं जाना होगा। सत्यापन करने के लिए पांच सदस्यीय दल का गठन प्रत्येक जन शिक्षा केंद्र के लिए किया गया है। आवेदक को दो प्रति में आवेदन की पावती, सत्यापन प्रपत्र के साथ आवश्यक दस्तावेजों की मूल प्रति लेकर जाना होगा, साथ ही जो मोबाइल नंबर उनके द्वारा आवेदन में अंकित किया गया है, उसे भी लेकर जाना होगा।
सत्यापन अधिकारी मोबाइल एप के माध्यम से सत्यापन की प्रक्रिया संपादित करेंगे।  सत्यापन हेतु आवेदक के मोबाइल नंबर पर एस एम एस आएगा। क्यूआर कोड के माध्यम से सत्यापन अधिकारी आवेदक द्वारा पोर्टल पर अंकित जानकारियों का मिलान पालक द्वारा लाए गए ओरिजिनल दस्तावेजों से करेंगे एवं परीक्षण अनुसार आवेदन की पात्रता अथवा अपात्रता निर्धारित होगी। पात्रता या अपात्रता की सूचना उसी समय आवेदक के मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से प्राप्त होगी इसके साथ ही सत्यापन का कार्य पूर्ण होगा, आवेदक को पात्र या अपात्र की सूचना सत्यापन केंद्र पर ही प्राप्त हो जाएगी। ऑनलाइन लॉटरी के लिए केवल पात्र आवेदक ही जा सकेंगे।
आवेदकों को सत्यापन के लिए जाते समय अद्यतन सत्यापन प्रपत्र एवं पावती के साथ जो भी दस्तावेज उनके द्वारा आवेदन में अंकित किए गए हैं, की मूल प्रति ले जाने के लिए कहा गया है। पूरे जिले में 79 सत्यापन केंद्र बनाए गए हैं, जहां पर, आरटीई नि:शुल्क प्रवेश के लिए आवेदकों द्वारा किए गए आवेदनों का सत्यापन कार्य प्रात: 11 बजे से सायं 5 बजे तक कार्यालयीन दिवसों में किया जाएगा।