शिशु एवं मातृ स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता

Scn news india

शिवम् सागर

शिशु एवं मातृ स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है

उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं का चिन्हांकन शत प्रतिशत करें

किल कोरोना सर्वे के साथ-साथ मलेरिया, डेंगू, फाइलेरिया से संबंधित संदिग्धों की भी करें पहचान कलेक्टर श्री सिंह

जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक संपन्न

बुधवार को कलेक्टर श्री दीपक की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित की गई। उन्होंने कहा कि शिशु का उचित विकास तथा मातृ स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है। ऐसी गर्भवती महिलाएँ जो उच्च जोखिम की श्रेणी में आती हैं, उनका चिन्हांकन कार्य शत प्रतिशत करें और इससे संबंधित डेटा एंट्री का कार्य भी नियमित रूप से करें।

कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने निर्देश दिए कि, ऐसे विकासखंड जिनकी प्रगति

ज़िले के औसत से कम पाई जाती है उनके ख़लिफ़ नोटिस दिया जाए एवं

आवश्यक कार्रवाई प्रस्तावित की जाए । उन्होंने कहा कि, इसी प्रकार अच्छा कार्य करने वाले स्वास्थ्य एवं महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाए साथ ही ख़राब प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों के ख़लिफ़ उचित कार्रवाई की जायेगी।

कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने खंड चिकित्सा अधिकारी तथा परियोजना अधिकारियों को निर्देश दिए कि, वे किल कोरोना सर्वे के साथ साथ मलेरिया, डेंगू, फाइलेरिया जैसी बीमारियों के संबंध में भी आवश्यक जानकारी लें तथा सर्वे के दौरान संबंधित व्यक्तियों से स्वास्थ्य की जानकारी लें। उन्होंने स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि, यदि कोई व्यक्ति इन बीमारियों से पीड़ित पाया जाता है तो उसे तत्काल आवश्यक चिकित्सकीय परामर्श दिया जाकर अस्पताल में भर्ती किया जाए जाए।

उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत आने वाली लाड़ली लक्ष्मी योजना एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की भी समीक्षा की और निर्देश दिए कि कोविड संक्रमण के दौरान धीमी पड़ी रफ़्तार को अब तेज़ी से आगे बढ़ाया जाए और दोनों ही योजनाओं के अंतर्गत पात्र व्यक्तियों के आवेदन प्राप्त कर उन्हें योजना का लाभ दिलाया जाए।

कलेक्टर श्री सिंह द्वारा जिले में कोविड-19 टीकाकरण की भी समीक्षा की गई। उन्होंने कमजोर प्रगति द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए अधिकारियों को माइक्रो प्लानिंग के निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि सभी जनपद पंचायतों के मुख्य के कार्यपालन अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि जिस प्रकार चुनाव में कार्य किया जाता है उसी प्रकार वैक्सीनेशन के लिए कार्य किया जाए। कर्मचारी तैनात किए जाएं। ग्राम पंचायत के सचिव तथा पटवारी के पास सूची अपडेट रहे, उनके पास जानकारी हो कि गांव में कितने लोगों को वैक्सीन नहीं लगा है।

समीक्षा बैठक में आयुष्मान कार्ड निर्माण की भी समीक्षा की गई। अनमोल पोर्टल पर डाटा एंट्री की समीक्षा के दौरान कलेक्टर द्वारा पाया गया डाटा एंट्री कार्य में आवश्यक प्रगति नहीं है जिस पर उन्होंने नाराज़गी व्यक्त की। उन्होंने कि डाटा एंट्री में कोताही नहीं बरती जाए।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर इन्द्राज सिंह ठाकुर महिला एवं बाल विकास की जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती रचना बधोलिया, समस्त विकास खंड अधिकारी एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी मौजूद थे |