खबर का असर – कॉल सेन्टर के प्रभारी डीई और एई की वेतनवृद्धि रोकने के निर्देश

Scn news india

मनोहर

भोपाल- प्रदेश बिजली विभाग विद्युत वितरण केंद्र में इन दिनों मनमानी का आलम बरपा है नई उम्र में इंजिनियर उपभोक्तओं  सीधे मुँह बात नहीं करते मोबाइल उठाने की तो बात ही दूर यही हाल अटेंडर , लाईन मेंन , अकाउंटेंट और एई जेई का है। जिसकी वजह से उपभोक्ता खासे परेशान है। जिस मामले को एससीएन न्यूज ने मंत्री जी को अवगत कराया था। साथ ही भोपाल कॉल सेंटर पर कॉल रिसीव नहीं किये जाने संबधी  उपभोक्ताओं की शिकायत   पर भी ध्यान आकर्षण कराया था नजीजतन उपभोक्ताओं के प्रति संवेदन ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अचानक बिजली कालोनी गोविन्दपुरा स्थित कॉल सेन्टर पहुँचकर वहाँ बिजली से संबंधित आने वाले फोन कॉल के संबंध में जानकारी ली। कॉल सेन्टर में आने वाले फोन कॉल और रिसीव कॉल में अंतर पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के एमडी श्री गणेश शंकर मिश्रा को कॉल सेन्टर के प्रभारी डीई और एई की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने और कॉल सेन्टर चलाने वाली एजेन्सी के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश दिये। श्री तोमर ने कॉल सेन्टर में काम करने वाले कर्मचारियों का पूरा वेतन सही समय पर देने के निर्देश दिये।

शिकायत कर्ता के घर पंहुचे ऊर्जा मंत्री

श्री तोमर ने कॉल सेन्टर में ही फोन पर भानपुर स्थित जिया कालोनी के श्री वसीम खान और मेहगाँव के श्री कैदार सोनी से बात कर उनकी समस्याएँ सुनी। श्री वसीम खान ने बताया कि वे सुबह 8.30 से शाम 5.30 तक चार फोन लगा चुके हैं, लेकिन हमारी समस्या का निराकरण नहीं हुआ है। इस पर ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने कॉल सेन्टर से सीधे श्री वसीम खान के घर पहुँचे। उन्होंने श्री वसीम खान से उनकी समस्या के संबंध में विस्तार से चर्चा की। श्री खान ने बताया कि आपके आने से पहले बिजली आ गई है। उन्होंने मंत्री जी की सक्रियता और उनके घर पहुँचने पर धन्यवाद दिया। ऊर्जा मंत्री को श्री खान ने बताया कि बिजली का बिल सही आता है और मैं समय पर बिजली बिल जमा कर रहा हूँ। ऊर्जा मंत्री ने श्री खान की बिजली की समस्या के निराकरण में देरी के लिये जिम्मेदार अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश एमडी को दिये। उन्होंने कहा कि इस तरह की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए।

ऊर्जा मंत्री ने ट्रांसमिशन स्टोर का भी निरीक्षण किया। उन्होंने जेबरा कंडक्टर का मेजरमेंट लिया। श्री तोमर ने इसकी गुणवत्ता की जाँच के निर्देश दिये। उन्होंने डिश इंसुलेटर की खरीदी के संबंध में पूरी जानकारी देने के निर्देश भी दिये।