फिर हुई मानवता शर्मसार -पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को चुकाने पड़े 7 सौ रुपये, बैलगाड़ी में शव ले जाने को परिजन हुए मजबूर

Scn news india

जिला ब्यूरो विकास सेन पन्ना 

प्रदेश के पन्ना जिले से एक मानवता को शर्मसार कर देने वाली तस्वीरें सामने आई हैं ,जी हाँ यह जो आप तस्वीरें देख रहे हैं यह कोई हिंदी फिल्म का वीडियो नही है यह एक हकीकत में मानवता को शर्मसार कर देने वाली तस्वीरें हैं यह तस्वीर शाहनगर उप स्वास्थ्य केंद्र की है यहां एक युवक ने अपनी निजी कारणों के चलते फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली उसके परिजनों को पोस्टमार्टम कराने की फीस भी चुकानी पड़ी और उसे शव वाहन न मिलने के कारण बैलगाड़ी से अपने गंतव्य तक ले जाना पड़ा देखिए क्या है पूरा मामला –

भले ही हमारे देश को आजाद हुए 7 दशक से भी ज्यादा हो गए हो और हमने चांद पर भी जगह ढूंढ ली हो लेकिन अभी भी कुछ जगह ऐसी हैं जहां पर मानवता शर्मसार होती दिख जाती है जी हां पन्ना जिले की शाह नगर उप स्वास्थ्य केंद्र में यह मामला देखने को मिला यहां महज 5 किलोमीटर दूर ग्राम आमा के 23 वर्षीय युवक ने अपने निजी कारणों के चलते फांसी लगा ली और पुलिस उसे पोस्टमार्टम के लिए शाह नगर के उप स्वास्थ्य केंद्र लेकर आ गई लेकिन यहां स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा पोस्टमार्टम की बाकायदा फीस मांगी गई जिससे गरीब परिजनों ने जैसे-तैसे इकट्ठा करके 7 सौ रुपये स्वास्थ विभाग के अमले को दिए तब जाकर कहीं उन्हें शव वापस दिया गया इतना ही नहीं स्वास्थ्य विभाग इतना कठोर हृदय दिखा सकता है कि जब शव को घर ले जाने की बात परिजनों ने की तो उसे बैलगाड़ी में ले जाने को बोल दिया गया और परिजन अपने स्वर्गवासी हो चुके भाई के मृत शरीर को बैलगाड़ी में लेकर अंत्येष्टि के लिए आगे बढ़ चले।

हालांकि हम ऐसी तस्वीर दिखने से हमेशा परहेज करते है लेकिन जब सिस्टम असंवेदनशील हो जाए और अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने में अक्षम हो जाए  तो उनकी संवेदनाओं को जगाने ऐसा परिदृश्य  प्रस्तुति करण भी मज़बूरी बन जाता है। मृतक के परिवार के प्रति हम भी  संवेदना प्रकट करते है। 

 

हमने जब जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी शाहनगर SDM बी बी पांडे से बात की तो उन्होंने इस घटना की पहले अनभिज्ञता जाहिर की लेकिन जब उन्हें हमारे माध्यम से यह तस्वीरें दिखाई गई तब उन्होंने इसे वेहद शर्मसार बता कर कार्यवाही करने की बात कही

और जब हमने स्वास्थ्य विभाग के मुखिया जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी से जानना चाहा कि क्या पन्ना जिले में अब पोस्टमार्टम की फीस भी चुकानी पड़ने लगी है क्या शासन प्रशासन ने कोई ऐसी पोस्टमार्टम करने की शुल्क निर्धारित कर दी है और शव को बैलगाड़ी में रखकर ले जाने की यह तस्वीरें भी हमने उन्हें दिखाई तब उन्होंने इस घटना को शर्मसार बताया और तत्काल पैसे मांगने वाले स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी को तत्काल पद से पृथक करने की बात कही.

भले ही प्रशासनिक जिम्मेवार अधिकारी कार्यवाही करने की बात कर रहे हो लेकिन आजादी के 72 वर्षों के बाद भी हमारे देश में ऐसी तस्वीरें सामने आना क्या मानवता को शर्मसार नहीं करती और हमारे सरकारी तंत्र की व्यवस्था को आईना नहीं दिखाती ?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.