16 जून से 15 अगस्त तक मस्याखेट पूर्णतया प्रतिबंधित

Scn news india

मनोहर

भोपाल-वर्षा ऋतु में मछलियों की वंशवृद्धि (प्रजनन) के दृष्टिकोण से उन्हें संरक्षण देने के लिए आगामी 16 जून से 15 अगस्त तक मछलियों का आखेट करना जिले में प्रतिबंधित रहेगा।  म.प्र. नदीय मत्स्याद्योग नियम 1972 की धारा 3 (2) के अंतर्गत वर्षाकाल में बन्द ऋतु घोषित करते हुए मत्स्याखेट, परिवहन और क्रय-विक्रय संबंधित प्रतिबंधात्मक अधिसूचना जारी की है। उल्लेखनीय है कि म.प्र. नदीय मत्योद्योग नियम के तहत 16 जून से 15 अगस्त तक की अवधि बंद ऋतु घोषित है। जिले में ऐसे छोटे तालाब या अन्य स्त्रोत जिनका कोई संबंध नदी से नहीं है और जिन्हें निर्दिष्ट जल की परीभाषा के अंतर्गत नहीं लाया गया है, को छोडकर समस्त नदीयों एवं जलाषयों में बंद ऋतु में मस्याखेट पूर्णतया प्रतिबंधित रहेगा। बंद ऋतु की अवधि में अवैधानिक मत्स्याखेट, परिवहन, क्रय-विक्रय आदि कार्य पर प्रतिबंधात्मक रहेगा। उक्त अधिसूचना का उल्लंघन करने पर म.प्र. मत्स्य क्षेत्र (संशोधन) अधिनियम 1981 की धारा 5 के तहत उल्लंघनकर्ता को एक वर्ष का कारावास या 5 हजार रूपये जुर्माना या दोनों से दंडित किया जा सकेगा।