लड़खड़ाने लगी बुरी तरह स्वास्थ्य सेवाएं -सरकार और जुडा दोनों को मिलकर हल निकलना होगा

Scn news india

मनोहर

लगातार 7 दिनों बाद भी जुड़ा की हड़ताल जारी है। जिससे अब स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह लड़खड़ाने लगी है। और अस्पताल में भर्ती मरीजों का हाल बेहाल है।  लेकिन ना ही सरकार को इस बात की चिंता है और नाही हड़ताली डॉक्टरों को दोनों की आपसी अड़ियल रवैये से प्रदेश की स्वास्थ्य सेवा चरमरा गई है।  रविवार शाम चार बजे जूडा पदाधिकारियों की चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से मुलाकात के बाद भी कोई हल नहीं निकला है। मंत्री ने जूडा से साफ कहा है कि आप कोर्ट के निर्देश का सम्मान करें और हड़ताल खत्म करें। यह समय हड़ताल करने का नहीं है। तो वही जुड़ा का कहना है कि हम भी हड़ताल ख़त्म कर काम पर लौटना चाहते है लेकिन सरकार दबाव डाल हमें हड़ताल करने के लिए मजबूर कर रही है। सरकार का कहना हो कि उन्होंने हमारी मांगे मान ली है तो लिखित आश्वासन क्यों नहीं दे पा रही। जब तक  हमें संतुष्टि नहीं होती हड़ताल करने को लिए मजबूर है। हम भी हड़ताल को खींचना नहीं चाहते। दूसरे राज्यों के बराबर मानदेय मिलना चाहिए।