सारनी -नालियों में बर्तन रख पीने का पानी भरने को मजबूर वार्ड की जनता

Scn news india

पीयूष डेनियल

सारनी -नगर पालिका सारनी क्षेत्र में पानी की समस्या आम बात है। ऐसा नहीं की पानी का आभाव है।  बल्कि समुचित प्रबंध के आभाव में व्यवस्था चरमरा गई है। हालात ये है कि निचली बस्ती के लोगों को पानी की जुगाड़ में सारा सारा दिन खपाना पड़ता है।  नल आते भी है तो गरीबों को पर्याप्त पानी नहीं मिल पाता। लोगो ने जो घरों में मोटरें लगा रखी है। जिसकी वजह से सार्वजनिक नालों में प्रेशर कम आता है । हालात ये बन गए है कि वार्ड के गरीब लोगों को गन्दी नालियों में बर्तन रख पीने के पानी की जुगाड़ करनी पड़ रही है।  पर इस पर ध्यान देने वाला कोई नहीं है। जिसकी आड़ में RO का पानी बेचने वाले चांदी काट रहे है।

भविष्य की योजना के लिए वर्तमान व्यवस्था ध्वस्त 

हमारे संवाददाता पीयूष डेनियल से चर्चा नगर पालिका के उपयंत्री श्री रविंद्र वराठे  ने बताया की नगर के वार्डो में घर घर पानी पंहुचाने जलावर्धन योजना के तहत कार्य चल रहा है जिसकी डेड लाईन अगस्त में है। संभवतः कोरोना की वजह से आगे बढ़ सकती है।  वहीँ प्रेशर कम होने का कारण जल स्तर का कम होना बताया। वहीँ नालियों में बर्तन रख पानी भरने की मज़बूरी पर खेद जताते हुए माना की ये गलत है।

 

बता दे कि नगर पालिका सारनी में पुरानी बिछी पाईप लाइन का समय समय पर सही संधारण नहीं किया गया और पाइप जमीन में दबती चली गई वर्तमान में पाईप लगभग 1 से 2 फिट नीचे दबी हुई है। जिसकी वजह से गर्मी में अक्सर सार्वजनिक नल पर निर्भर लोगों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ता है। चूँकि जलावर्धन योजना का कार्य चल रहा है। कार्य की प्रगति को देखते हुए नहीं लगता की आने वाले 2 से पहले इस सुविधा का लाभ मिल सकेगा। जिसकी वजह से वर्तमान की व्यवस्था पर भी अधिकारियों का ध्यान नहीं है। और लोगों को नालियों में बर्तन रख पीने जा पानी भरने को मजबूर होना पड़ रहा है।

सुविधा की तो बात दूर जगह जगह खोदे गड्डे ही नहीं भर पाई ठेका  कंपनी

101 करोड़ की लागत  से नगर में बीते 3 वर्षो से कच्छुए की गति से चल रहे जलावर्धन योजना के कार्य ने नगर का नक्शा ही बिगड़ दिया है। पाइप लाईन बिछाने के लिए खोदे गए गड्डे भी ठेका कंपनी द्वारा नहीं भरे गए। जो बारिश में जानलेवा साबित हो सकते है। गलियों की बात तो दूर नगर पालिका को जाने वाले वार्ड नम्बर 3 के मुख्य मार्ग पर पाइप लाइन डालने खोदा गया गड्डा 3 माह से वैसा का वैसा ही पड़ा है। जहाँ से निकलने वाले वाहन चालकों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। हैरत की बात है की मार्ग से प्रतिदिन पालिका अधिकारी पालिका अध्यक्ष का निकलना होता है लेकिन इस ओर इनका भी ध्यान नहीं। कोई स्कूटी सवार यहाँ गिर कर चोटिल हो गए है।