सोशल मीडिया पर सेल्फी अभियान – “मेरा परिवार कोरोना मुक्त” और “वैक्सीनेट परिवार”

Scn news india

मनोहर

भोपाल-कोविड -19 अनुकूल व्यवहारों के प्रति समाज में जनजागरूकता बढ़ाने के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, भोपाल की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया।

   बैठक में स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, नगर निगम, पचायत विभाग, ग्राम रक्षा समिति एवं विभिन्न एनजीओ के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए।
   मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, भोपाल श्री विकास मिश्रा ने कहा कि 01 जून से अनलॉक की प्रक्रिया प्रारंभ की जा रही है। वर्तमान में कोविड -19 संक्रमण के प्रकरणों में कमी आई है। कोविड -19 संक्रमण के प्रकरणों में निरंतर कमी लाये जाने हेतु यह आवश्यक है कि कोविड -19 हेतु अनुकूल व्यवहार जैसे कि मास्क का निरंतर और सही उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग एवं स्वच्छता के नियमों का कड़ाई से पालन किया जाये। वर्तमान में कोविड -19 से सुरक्षा हेतु वैक्सीन सबसे आसान तरीका है। जिन क्षेत्रों में टीकाकरण का प्रतिशत कम है ऐसे क्षेत्रों में सघन प्रचार-प्रसार गतिविधियों का आयोजन किया जाये। ऐसे लोग जो टीका लगवा चुके हैं, वे रोल मॉडल बनकर अन्य लोगों को टीकाकरण हेतु प्रेरित करें। जो परिवार कोविड -19 टीकाकरण करवा चुके हैं वे ” मेरा परिवार कोरोना मुक्त” की तर्ज पर अपने फोटोग्राफ्स सोशल मीडिया पर शेयर करे जिससे कि अन्य लोगों को भी टीकाकरण हेतु प्रेरणा मिले।
   प्रत्येक विभागीय अमला एवं एनजीओ उनके परिवार, रिश्तेदार, मित्र एवं आसपास रहने वाले प्रत्येक लक्षित हितग्राही को टीकाकरण करवाया जाना सुनिश्चित करें।
   अपर मुख्य सचिव, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के निर्देशानुसार उच्च जोखिम समूह के लोगों का टीकाकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जाना है। उच्च जोखिम समूह के लोग जैसे कि घर पर काम करने वाली महिलाओं, सब्जी विक्रेता, सिलेण्डर प्रदायकर्ता, किराना स्टोर, हाथ ठेला चालक, दूध विक्रेता, होटल रेस्टोरेण्ट स्टाफ, हेयर सेलून वर्कर वाहन चालक, सुरक्षा गार्ड, सब्जी विक्रेता इत्यादि ऐसे लोग हैं जिनसे हम नियमित रूप से सेवाएं प्राप्त करते है इसलिए ये हमारा व्यक्तिगत दायित्व है कि इन लोगों को टीकाकरण की सेवाएं प्राप्त हो।
   भोपाल जिले में आशा, आंगनवाडी एवं स्व-सहायता समहों की महिलाओं द्वारा निरंतर कार्य किया जा रहा है। ये सभी महिला कार्यकर्ता कोविड -19 की इस विकट परिस्थिति में भी दिन-रात उत्साहपूर्वक कार्य कर रही हैं। साथ ही गैर शासकीय संगठनों का सहयोग भी निरंतर प्राप्त हो रहा है।
   अनुकूल व्यवहार परिवर्तन एवं टीकाकरण के प्रचार-प्रसार हेतु नये आईडिया का उपयोग किया जावे। ऐसे संदेशों का प्रयोग किया जावे जो कि सहज और सरल हो। कोविड -19 की संभावित तीसरी लहर के परिप्रेक्ष्य में बच्चों के संक्रमण से बचाव हेतु जागरूकता गतिविधियों का आयोजन किये जाने के निर्देश दिये गए। कोविड -19 संक्रमण से बचाव हेतु संचालित रोको-टोको अभियान में स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग नगर निगम, पुलिस विभाग एवं एनजीओ और तेजी से कार्य करें ताकि जनजागरूकता के माध्यम से कोविड के प्रकरणों को कम किया जा सके।
ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण जागरूकता हेतु सभी विभागों एवं एनजीओ को विशेष प्रयास। करने की आवश्यकता है। इस हेतु गांव के ऐसे लोगों के माध्यम से प्रचार-प्रसार करें, जो स्वयं का टीकाकरण करवा चुके हैं। गांवों में प्रचार-प्रसार हेतु दीवार लेखन के कार्य को विस्तार दिये जाने की आवश्यकता है।
   इस हेतु प्रचार-प्रसार दल द्वारा कम शब्दों के संदेश बनाये गए हैं जो कि अथपूर्ण होने के साथ-साथ समझाने में भी आसान है। ऐसे संदेशों का प्रयोग प्रचार-प्रसार में किया जाएगा।